शांति का Nobel पुरस्कार यजीदी रेप पीड़िता नादिया मुराद और कांगो के डॉक्टर डेनिस मुकवेगे के नाम

ओस्‍लो। Nobel पुरस्कारों में शुक्रवार को शांति के पुरस्कार की घोषणा की गई। ओस्लो में पांच सदस्यों की कमेटी ने डीआर कांगो के डॉक्टर डेनिस मुकवेगे और आईएस के आतंक का शिकार हुई यजीदी रेप पीड़िता नादिया मुराद को Nobel शांति पुरस्कार के लिए चुना है। यौन हिंसा के खिलाफ प्रभावी मुहिम चलाने और महिला अधिकारों के लिए उत्कृष्ट कार्य के बदले यह सम्मान दिया गया है।
पुरस्कार चयन समिति ने कहा, ‘दोनों ही विजेताओं को युद्ध क्षेत्र में यौन हिंसा को हथियार की तरह इस्तेमाल किए जाने की मानसिकता के खिलाफ सराहनीय काम किया है। यौन हिंसा के खिलाफ इनके सर्वोच्च योगदान को देखते हुए Nobel शांति सम्मान दिया जा रहा है।’ रेप पीड़िता नादिया मुराद को आईएस के लड़ाकों ने सेक्स स्लेव बनाया था। वहां से जान बचाकर निकलने के बाद से वह इस वक्त पूरी दुनिया में महिलाओं को यौन हिंसा के खिलाफ जागरूक करने का काम कर रही हैं। डॉक्टर मुकवेगे पेशे से स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं और वह यौन हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए लंबे समय से काम कर रहे हैं।
इस साल शांति के Nobel पुरस्कार के लिए कुल 331 (216 लोगों और 115 संगठनों) का नाम मुकाबले में शामिल हुआ था। अब तक 98 नोबेल शांति पुरस्कार दिए जा चुके हैं। इस साल बुकी मार्केट में अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन का नाम भी चल रहा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *