कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मुंबई में नई गाइडलाइंस जारी

मुंबई। कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बीएमसी ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है ताकि अस्पतालों में बेड्स की कमी न पड़े। इसके लिए प्राइवेट अस्पतालों के 80 प्रतिशत बेड और सभी आईसीयू बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व रखने का निर्देश दिया गया है। बीएमसी कमिश्नर आईएस चहल ने सोमवार को नई गाइडलाइंस जारी करते हुए सरकार व बीएमसी के अस्पतालों के साथ ही प्राइवेट अस्पतालों और नर्सिंग होम्स को पूरी तरह से तैयार रहने का निर्देश दिया है।
चहल ने सभी अस्पतालों उनके उनकी ऑक्सीजन सप्लाई और वेंटिलेटर चेक करने को कहा है। साथ ही, पीपीई किट्स, मास्क और वीटीएम किट्स भरपूर संख्या में जमा कर लें ताकि जरूरत पड़ने पर इनकी कमी न रहे।
चहल ने निर्देश दिया कि प्राइवेट अस्पताल कोरोना मरीजों को वॉर्ड वॉर रूम की अनुमति के बाद ही भर्ती करें। कोरोना मरीजों को अस्पतालों में भर्ती कराने और उनके लिए बेड की उपलब्धता तय करने की जिम्मेदारी वॉर्ड ऑफिसर्स को सौंपी गई है। विशेष परिस्थितियों में डिजास्टर मैनेजमेंट डायरेक्टर और चीफ कोआर्डिनेटर प्राइवेट हॉस्पिटल के निर्देश पर मरीजों को भर्ती किया जाएगा। सभी अस्पतालों से समन्यवय के लिए बीएमसी नोडल ऑफिसर 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे।
असिस्टेंट कमिश्नर रखें नजर
कमिश्नर ने सभी वॉर्डों के असिस्टेंट कमिश्रर को निर्देश दिया है कि वह उनके वॉर्ड के अधीन आने वाले निजी अस्पतालों पर नजर रखें और सुनिश्चित करें कि अस्पताल के प्रबंधक वॉर्ड वॉर रूम के जरिए ही मरीजों को भर्ती कर रहे हैं कि नहीं। इतना ही नहीं, इस निगरानी के लिए शिक्षक या अन्य कर्मचारियों को नियुक्त किया जाए।
नोडल अधिकारी करें नियुक्त
सभी निजी अस्पतालों के प्रबंधकों को 24 घंटे के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करने का निर्देश दिया है। इस नोडल अधिकारी का नंबर स्थानीय वॉर्ड वॉर रूम को देने के लिए कहा है, ताकि समय समय पर लगने वाली आवश्यक जानकारी बीएमसी को मिल सके।
‘फायर ऑडिट करें’
भांडुप में कोविड अस्पताल सनराइज के 9 मरीजों की मौत बीते दिनों मॉल में लगी आग से हुई थी। इस आग में अस्पताल में लगे अग्निरोधक यंत्र काम न करने की बात सामने आई है। इसे गंभीरता से लेते हुए सभी निजी कोविड अस्पतालों को स्ट्रक्चरल स्टेबिलिटी जांचने और फायर ऑडिट करने का निर्देश कमिश्नर ने दिया है।
बिना लक्षण वालों को तुरंत करें डिस्चार्ज
बीएमसी कमिश्नर ने सभी प्राइवेट अस्पतालों को निर्देश दिया है कि अगर उन्होंने बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों को भर्ती किया है, तो तुरंत डिस्चार्ज करें, ताकि कोविड के गंभीर मरीजों को फौरन बेड मिल सकें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *