QUAD देशों की नौसेनाओं के नेवल एक्सरसाइज मालाबार का दूसरा चरण अरब सागर में शुरू

नई दिल्‍ली। QUAD देशों भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान की नौसेनाओं ने अरब सागर में मालाबार युद्धाभ्यास का दूसरा चरण शुरू कर दिया है। इसमें घातक युद्धपोत, पनडुब्बियां, एयरक्राफ्ट्स आदि हिस्सा ले रहे हैं। युद्धाभ्यास का पहला चरण बंगाल की खाड़ी में 3 नवंबर से 6 नवंबर तक चला था।
मंगलवार से शुरू हुआ मालाबार युद्धाभ्यास का दूसरा चरण 20 नवंबर तक चलेगा। 13 साल बाद चारों देशों की नौसेनाएं पहली बार किसी महा नौसैनिक अभ्यास में एक साथ हिस्सा ले रही हैं। इसे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में विस्तारवादी चीन के लिए बड़ा संदेश माना जा रहा है।
चार का दम
युद्धाभ्यास के दूसरे चरण के पहले दिन इंडियन नेवी का विक्रमादित्य विमानवाहक पोत, अमेरिकी विमान वाहक पोत निमित्ज और ऑस्ट्रेलिया और जापान की नौसेना की अग्रिम मोर्चो पर तैनात पोतों ने जटिल अभ्यास में हिस्सा लिया।
बेहद घातक है अमेरिका का यूएसएस निमित्ज
इस युद्धाभ्यास में परमाणु ईंधन से संचालित यूएसएस निमित्ज के नेतृत्व में अमेरिकी हमलावर समूह हिस्सा ले रहा है। यूएसएस निमित्ज दुनिया का सबसे बड़ा युद्धपोत है। यह युद्धक समूह विशाल नौसेना बेड़ा है जिसमें विमान वाहक पोत के साथ-साथ बड़ी संख्या में डेस्ट्रॉयर, फ्रिगेट और अन्य पोत शामिल हैं।
चीन के साथ तनाव के बीच युद्धाभ्यास से कड़ा संदेश
मालाबार युद्धाभ्यास का पहला चरण तीन से छह नवंबर के बीच बंगाल की खाड़ी में हुआ और इस दौरान पनडुब्बी युद्ध और समुद्र से हवा में मार करने की क्षमता का अभ्यास किया गया। यह युद्धाभ्यास ऐसे समय हो रहा है जब पिछले 6 महीने से भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में सीमा पर गतिरोध चल रहा है जिससे दोनों देशों के रिश्तों में तनाव आया है। युद्धाभ्यास विस्तारवादी चीन को एक तरह से कड़ा संदेश है कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में उसका कोई भी दुस्साहस महंगा पड़ेगा। यही वजह है कि इस युद्धाभ्यास से चीन भड़का भी हुआ है। उसे लगता है कि यह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में उसके प्रभाव को नियंत्रित करने के लिए है।
घातक विध्वंसक भी ले रहे हिस्सा
इस युद्धाभ्यास में निमित्ज के साथ क्रूजर प्रिंसटन और डेस्ट्रॉयर स्टरेट और पी8एम समुद्री टोही विमान भी शामिल हैं। ऑस्ट्रेलियाई नौसेना का प्रतिनिधित्व फ्रिगेट बल्लार्ट और हेलिकॉप्टर कर रहे हैं।
हवाई रक्षा का भी अभ्यास
4 दिन तक चलने वाले दूसरे चरण के इस युद्धाभ्यास में ‘क्रॉस डेक फ्लाइंग ऑपरेशन और विक्रमादित्य पर तैनात मिग-29 के और निमित्ज पर तैनात एफ-18 लड़ाकू विमान और ई2सी हॉकआई के जरिए हवाई रक्षा का अभ्यास करेंगे। इसके अलावा पनडुब्बी युद्ध का भी अभ्यास किया जाएगा।
भारत की ओर से भी घातक डेस्ट्रॉयर ले रहे हिस्सा
भारतीय दल का नेतृत्व रियर ऐडमिरल और पश्चिमी बेड़े के फ्लैग ऑफिसर कृष्ण स्वामीनाथन कर रहे हैं। इसमें आईएनएस विक्रमादित्य के अलावा हवाई इकाई के हेलिकॉप्टर, डेस्ट्रॉयर कोलकाता और चेन्नै, स्टील्थ फ्रिगेट तलवार और सहायक पोत दीपक भी इस युद्धाभ्यास में भारत की ओर से शामिल हो रहे हैं। इसके अलावा देश में ही निर्मित पनडुब्बी खंडेरी और पी8आई समुद्री टोही विमान भी भारतीय नौसेना की ओर से अपनी क्षमता का परिचय देंगे।
1992 में शुरू हुआ था मालाबार युद्धाभ्यास
मालाबार युद्धाभ्यास की शुरुआत 1992 में अमेरिका के साथ हिंद महासागर में द्विपक्षीय युद्धाभ्यास के तौर पर हुई थी। वर्ष 2015 में जापान इस युद्धाभ्यास का स्थायी हिस्सा बना। यह इस युद्धाभ्यास का 24वां संस्करण है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *