राष्ट्रीय आम दिवस: आम के आम और गुठलियों के दाम

हम आम आदमी की नहीं हम फलों के राजा आम की बात कर रहे हैं जिसके लिए कहा जाता है “आम के आम और गुठलियों के दाम”, जी हां हम उसी आम की बात कर रहे हैं जिसका नाम सुनते ही आपके मुँह में भी पानी आ गया होगा और आप उसके खट्टे मीठे स्वाद का आनंद ले रहे होंगे विशेषकर मधुमेह रोगी से पीड़ित लोगों को बहुत ही स्वाद आ रहा होगा |

1987 में भारत की राजधानी दिल्ली में आम के प्रचार प्रसार के लिए एक वार्षिक दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय आम महोत्सव आयोजित किया गया था| आम के बारे में ज्ञात तथ्यों के बारे में जानना और समाज में इसका प्रचार प्रसार करना है |भारत में 5000 साल पहले से आम की खेती की जाती है यह आम के लोकगीतों और धार्मिक समारोह से अटूट रूप से जुड़ा हुआ है| भारत में हर वर्ष 22 जुलाई को राष्ट्रीय आम दिवस (National Mango Day) के रूप में फल के राजा आम का दिवस मनाया जाता है| इस दिन के इतिहास के बारे ज़्यादा जानकारी नहीं है|

लखनऊ परिक्षेत्र का दशहरी आम एक समय में इतना प्रसिद्ध था कि यह विदेशों तक निर्यात होता हैं। आम की किस्मों के बारे में पता करें तो अनेक तरह के आम आते हैं |यह कुछ नस्लें जिसका वजन चार से पांच किलो तक एक आम का होता है|

केरल में कन्नूर जिले के कन्नपुरम को ‘स्वदेशी मैंगो हेरिटेज एरिया’ घोषित किया गया है। कन्नपुरम आम की विभिन्न देशी किस्मों का घर है। इस पंचायत विस्तार में आम की 200 से अधिक किस्मे उगाई जाती हैं। केरल के कन्नूर जिले में आम प्रेमी मई के प्रथम सप्ताह में फल पर दावत के लिए मिलन समारोह आयोजित करते हैं।

दुनिया में आम की कई नस्लें हैं लेकिन दुनिया का सबसे महंगा आम जापान के मियाजाकी प्रांत का तइयो नो तमांगो आम है| आपको जानकर हैरानी होगी कि इस आम की कीमत 3 लाख रुपए किलो के करीब है| अब यह अपने भारत देश में बिहार के पूर्णिया में एक शख्स की मेहनत से तैयार किया गया है| तकरीबन यह 25 से 26 हजार रुपए का एक आम पड़ता है|

भारत में उगायी जाने वाली आम की किस्मों में दशहरी, लंगड़ा, चौसा, फज़ली, बम्बई ग्रीन, बम्बई, अलफ़ॉन्ज़ो, बैंगन पल्ली, हिम सागर, केशर, किशन भोग, मलगोवा, नीलम, सुर्वन रेखा, वनराज, जरदालू हैं। नई किस्मों में, मल्लिका, आम्रपाली, रत्ना, अर्का अरुण, अर्मा पुनीत, अर्का अनमोल तथा दशहरी-अनेक प्रमुख प्रजातियाँ हैं।

गर्मी के दिनों में आम की हर शहर में जगह जगह आम से लदी ठेल मिल जाएँगी। गर्मी के फल में मिठास के साथ अनेक गुण भी होते हैं| गुण होने के साथ-साथ इसकी सेवन के इतने तरीके आज ईजाद हो गए हैं कि आदमी को इस फल के खाने से कभी भी ऊबन नहीं होती है| आम जैसे फल को मैंगो शेक ,स्मूदी ,मैंगो केक ,मैंगो आइसक्रीम, मैंगो रोटी, फ्रूट चार्ट ,आम को चूस के उस का रस पीना अनेक इस तरीके के व्यंजन बन जाते हैं जो कि भारत में नहीं विदेशों में भी काफी प्रचलन में है|

– राजीव गुप्ता जनस्नेही कलम से
लोक स्वर, आगरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *