हत्‍या कर भाग रहे बदमाशों को उग्र भीड़ ने पीटा, दो की मौत

अंबेडकर नगर। उत्तर प्रदेश के अंबेडकरनगर जिले में शुक्रवार को सशत्र बदमाशों ने एक पूर्व प्रधान एवं पूर्व कनिष्ठ प्रमुख को गोलियों से छलनी कर दिया। अस्पताल पहुंचने पर डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वारदात को अंजाम देकर भाग रहे बाइक सवार बदमाशों को घेरकर उग्र बाजार वासियों ने इतना पीटा की दो की मौके पर ही मौत हो गई जब एक की हालत नाजुक बनी हुई है। बचाव में एक दुकानदार भी बदमाशों की गोली से घायल हो गया है। घटना से इलाके में सनसनी फैल गई है।
इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के खैरा ग्राम सभा के मजरे चिनगी निवासी पूर्व प्रधान धर्मेंद्र वर्मा 45 पुत्र स्वर्गीय जियालाल वर्मा दोपहर बाद करीब ढाई बजे उतरेथू बाजार के चौराहे के पास स्थित शीतल मेंस वियर पर बैठे थे। तभी ऐनवा बाजार की तरफ से सफेद रंग की बाइक से तीन बदमाश बाजार में आये और बाइक खड़ी कर शीतल मेंस वीयर पर कपड़ा लेने के बहाने गए। वहां पूर्व प्रधान धर्मेंद्र वर्मा को बैठा देख वापस आए और कुछ देर बाद ही वापस लौटकर उनके ऊपर असलहे से ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। धर्मेंद के सीने और पेट मे लगभग 12 गोलियां लगी हैं।
उन्होंने बदमाशों से लोहा भी लिया लेकिन बाद में गिर गए। उन्हें तत्काल जिला अस्पताल ले जाया गया, लेकिन चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। वहीं गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरे बाजार में अफरातफरी मच गई। वारदात के बाद बाज़ारवासी भी उग्र हो गए और गोली मारकर भाग रहे तीनों बदमाशो को घेर लिया और पीटना शुरू कर दिया। अपने बचाव में बदमाशों ने हवा में भी फायरिंग की लेकिन गोली खत्म होने से वे घिर गए। बाजारवासियों ने बदमाशों को इतनी बुरी तरह पीटा की दो की मौके पर ही मौत हो गई जब कि एक गम्भीर रूप से घायल है। जिसे पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया।
उसकी पहचान अविनाश सिंह पुत्र साधू शरण सिंह पुरैनी बन्दनपुर थाना गोसाईगंज जिला अयोध्या के रूप में हुई है। एक बदमाश को भीड़ ने जलाने का भी प्रयास किया गया, लेकिन पुलिस ने किस तरह से उसे से छुड़ाया। बदमाशों के पास से अवैध असलहा और बरामद हुआ है। दो बदमाशों की पहचान हो गई है। एक मृत बदमाश का नाम रितेश उर्फ डीएम निवासी खेवार है। यही मुख्य शूटर बताया जा रहा है।
पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि पूर्व प्रधान की हत्या की घटना के कारणों की छानबीन की जा रही है। बदमाशों की आपराधिक इतिहास और उनकी पहचान कराई जा रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *