यूपी विधानसभा का मानसून सत्र: शोक प्रस्तावों के बाद कार्यवाही स्थगित

लखनऊ। यूपी की 17वीं विधानसभा का मानसून सत्र आज से तीन दिन के लिए शुरू हुआ ज‍िसमें सत्र के पहले दिन आज मृत सदस्यों, गलवानी घाटी में शहीद जवानों व दिवंगत कोरोना वॉरियर्स के निधन पर शोक प्रस्ताव के बाद सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।

कोरोना महामारी के कारण सत्र में कई व्यवस्थाएं की गई हैं, जो विधानसभा के इतिहास में पहली बार दिखाई दी। जैसे विधायकों को दर्शक दीर्घा व लॉबी में भी बैठाया गया है। सत्र के पहले दिन पीपीई किट में पहुंचे सपा विधायकों व एमएलसी ने कानून व्यवस्था समेत अन्य मुद्दों को लेकर प्रदर्शन किया है।

60 साल आयु के ऊपर के सदस्य वर्चुअल जुड़ेंगे

इस सत्र के दौरान तकरीबन 16 विधेयकों को मंजूर किए जाने की तैयारी है। इस विधेयक की खास बात यह है कि पहली बार सदन में वर्चुअल कार्यवाही हो रही है। दरअसल, 60 साल से अधिक उम्र के विधायकों को सत्र में वर्चुअल तरीके से जोड़ा गया। सिर्फ 60 साल से कम उम्र के विधायकों को ही सदन में मास्क और ग्लब्स के साथ प्रवेश दिया गया।

इतिहास में ये पहली बार होगा

सदस्य एक सीट छोड़कर बैठेंगे।
नेता सदन के पास कोई नहीं बैठेगा।
संसदीय कार्यमंत्री की सीट अलग होगी।
सत्र के दौरान कैफेटेरिया बंद रहेगा।
केवल गर्म पानी व काढ़ा मिलेगा।
कार्यवाही का यूट्यूब पर प्रसारण होगा।
8 से 10 विधायक नहीं होंगे शामिल

कोरोना महामारी के चलते इस बार सत्र में 8 से 10 विधायक शामिल नहीं होंगे। खादी एवं एमएसएमई राज्यमंत्री उदयभान सिंह, विधायक संजू यादव (अकबरपुर), तेजपाल नागर (दादरी), धनंजय कनौजिया (बेल्थरा रोड, बलिया) और एमएलसी परवेज अली बुधवार को कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार शाम तक 250 विधायकों की जांच की है। करीब 20 विधायकों के घर से सैंपल कलेक्ट किए गए हैं। वहीं, मंत्री कमला रानी वरुण व चेतन चौहान, विधायक वीरेंद्र सिंह सिरोही, पारसनाथ यादव की मौत हो चुकी है।

वेल में समूह में आकर नहीं सकेगा विरोध

इस बार सत्र चलने के दौरान विशेष नियम भी लागू होंगे। विधानसभा की लॉबी और गलियारे मे लोगों को खड़े होने की इजाजत नहीं होगी। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए विधानसभा कैंटीन में खाने के लिए दस लोग ही एक साथ बैठ सकेंगे। पहले ग्रुप के हटने के बाद ही दूसरा ग्रुप बैठ सकेगा। यहां तक कि वेल में विरोध कराते वक्त भी झुंड में खड़े होने की इजाज़त नहीं होगी।

विधानमंडल में यह विधेयक कराए जाएंगे मंजूर

उत्तर प्रदेश लोक एवं निजी सम्पत्ति क्षति वसूली विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश आकस्मिकता निधि (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश राजकोषीय उत्तरदायित्व एवं बजट प्रबंधन द्वितीय (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश राज्य विधानमंडल सदस्यों की उपलब्धियों और पेंशन (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश औद्योगिक विवाद (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश कारखाना विवाद (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश औद्योगिक क्षेत्र विकास (संशोधन) विधेयक 2020
कारागार अधिनियम 1894 में (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश मूल्य संवर्धित कर संशोधन विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश मंत्री वेतन भत्ता, और प्रकीर्ण उपबंध (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश कतिपय श्रम विधियों से अस्थाई छूट (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश कृषि उत्पादन मंडी (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश गोवध निवारण (संशोधन) विधेयक 2020
उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित स्वतंत्र विद्यालय (शुल्क विनियमन) (संशोधन) विधेयक 2020
कारागार उत्तर प्रदेश (संशोधन) विधेयक 2020

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *