पैसे-पैसे को तरसे विदेशों में फंसे यस बैंक के कस्‍टमर्स

नई दिल्‍ली। विदेश यात्रा कर रहे यस बैंक के लगभग 40,000 कस्टमर्स बैंक के परेशानी में घिरने के कारण फंस गए हैं। इन कस्टमर्स के पास यस बैंक के डेबिट और फॉरेक्स कॉर्ड हैं। उन कस्टमर्स के लिए स्थिति अधिक खराब है जिन्होंने कैश करंसी के बदले फॉरेक्स प्रीपेड कार्ड खरीदे थे।
ये कस्टमर्स अपने होटल का बिल, रेंट, ट्रैवल और फूड तक के लिए भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। बैंक के कस्टमर्स SOS मेसेज भेज रहे हैं।
यस बैंक कस्टमर्स विदेशों में परेशान
एक फॉरेक्स कार्ड ऑपरेटर ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, ‘ड्राफ्ट की तरह फॉरेक्स प्रीपेड कार्ड भी प्री-पेड इंस्ट्रूमेंट होते हैं। यह अचानक आई एक ऐसी मुश्किल है जिससे विदेश में हजारों भारतीय अपनी रकम तक पहुंच न होने के कारण फंस गए हैं। ऐसी स्थिति के बारे में सोचिए जिसमें आप विदेश यात्रा कर रहे हैं और आपके पास पेमेंट के लिए डेबिट/क्रेडिट कार्ड हैं जो अब स्वीकार नहीं किए जा रहे।’
किस जरूरत के लिए निकाल सकते हैं कितने पैसे?
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने यस बैंक से प्रति व्यक्ति अधिकतम 50,000 रुपये निकालने की लिमिट तय की है। हालांकि इलाज की जरूरत, हायर एजुकेशन या विवाह के खर्च के भुगतान के लिए 5 लाख रुपये तक निकालने की छूट दी गई है।
विदेश में रहकर पढ़ते हैं, किराया नहीं दे पा रहे यस बैंक कस्टमर
प्रीपेड फॉरेक्स कार्ड रखने वाले यस बैंक के बहुत से कस्टमर्स ने बैंक को ट्वीट कर अपनी रकम उपलब्ध नहीं होने की शिकायत की है। विदेश में पढ़ाई कर रहे हर्ष वाधवा के पास बुक माय फॉरेक्स मल्टी-करेंसी कार्ड है।
उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, ‘मुझे किराया देना है लेकिन मैं अपने कार्ड में पहले से धन होने के बावजूद उसे नहीं निकाल सकता।’
कनाडा में फंसे सौमित्र की मुश्किल
सौमित्र चक्रवर्ती ने ट्विटर पर बताया कि वह कनाडा में हैं और उनके पास धन का एकमात्र स्रोत फॉरेक्स कार्ड है। उन्होंने विदेश मंत्री एस जयशंकर को टैग करते हुए ट्विटर पर लिखा है, ‘आप मेरी कार्ड सर्विसेज कैसे बंद कर सकते हैं? मैं एक मुश्किल स्थिति में फंस गया हूं। यह मेरे लिए SOS सिचुएशन है।’
किसी भी ATM से निकल रहे पैसे
बहरहाल, यस बैंक ने शनिवार को बताया था कि उसके सिस्टम चल रहे हैं और डेबिट कार्ड और एटीएम के इस्तेमाल से रकम निकाली जा सकती है। यस बैंक ने ट्वीट कर कहा था, ‘आप यस बैंक के डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर यस बैंक और अन्य बैंकों के एटीएम से रकम निकाल सकते हैं। आपके संयम के लिए धन्यवाद।’
ऑनलाइन रेमिटेंस फिलहाल बंद
बैंक ने यह स्पष्ट किया है कि RTGS/NEFT के जरिए पेमेंट सहित सभी ऑनलाइन रेमिटेंस अभी बंद हैं। इसके साथ ही बैंक ने बताया है कि क्लीयरिंग एक्टिविटीज शुरू होने पर तय लिमिट तक ईएमआई का भुगतान किया जाएगा। पहले से जारी हुए चेक का क्लीयरिंग एक्टिविटीज दोबारा शुरू होने या RBI से निर्देश मिलने तक भुगतान नहीं होगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *