महाबलीपुरम के ममल्लापुरम में हुई मोदी और शी की मुलाकात

महाबलीपुरम के ममल्लापुरम में हुई मोदी और शी की मुलाकात
महाबलीपुरम के ममल्लापुरम में हुई मोदी और शी की मुलाकात

महाबलीपुरम। ऐतिहासिक शहर महाबलीपुरम में पीएम नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अनौपचारिक मुलाकात हुई। दोनों देशों के बीच बेहतर रिश्तों के लिहाज से चीनी राष्ट्रपति का यह दौरा बहुत महत्वपूर्ण है। चीनी राष्ट्रपति से मुलाकात के लिए पहुंचे पीएम मोदी ने पारंपरिक तमिल परिधान वेष्टि (लुंगी जैसा परिधान) में पहुंचे। चीनी राष्ट्रपति भी कैजुअल सफेद शर्ट और पैंट में पहुंचे। दोनों नेताओं ने गर्मजोशी से हाथ मिलाया। शी के स्वागत के लिए भारत की ओर से खास इंतजाम भी किए गए हैं। वुहान में चीन के राष्‍ट्रपति ने जिस तरह से पीएम मोदी का ग्रैंड वेलकम किया था, कुछ उसी तरह से चीनी राष्‍ट्रपति का महाबलीपुरम में स्‍वागत किया गया।
ममल्लापुरम में 3 पौराणिक महत्व वाले स्मारकों का भ्रमण
दोनों शीर्ष नेता ममल्लापुरम में तीन स्मारकों का दौरा कर रहे हैं। इसमें अर्जुन की तपस्यास्थली, पंच रथ और शोर मंदिर शामिल हैं। शोर मंदिर में सांस्कृतिक नृत्य की लुत्फ भी चीनी राष्ट्रपति थोड़ी देर में उठाएंगे। यह सांस्कृतिक नृत्य भारत के प्रसिद्ध सांस्कृतिक नृत्य समूह कलाक्षेत्र द्वारा पेश किया जाएघा जिसे मशहूर क्लासिकल डांसर और ऐक्टिविस्ट रुक्मणि देवी ने 1936 में गठित किया था।
अर्जुन की तपस्यास्थली पर पहुंचे दोनों नेता
अर्जुन की तपस्या स्थली का भ्रमण पीएम मोदी और शी चिनफिंग पहुंचे। इस दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति के बीच काफी अच्छी बॉन्डिंग देखने को मिली। पीएम मोदी ऐतिहासिक स्थल के बारे में शी को कुछ बताते हुए भी नजर आए। इस दौरान दोनों ही नेताओं के बीच लंबी बातचीत होती दिखी और शी काफी ध्यान से पीएम मोदी की बात सुनते नजर आए।
कृष्णा बटर बॉल भ्रमण के दौरान दिखी जबरदस्त बॉन्डिंग
पीएम मोदी और शी चिनफिंग ने कृष्णा बटर बॉल का भ्रमण किया। 250 टन का यह प्राकृतिक चट्टान पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है। इस चट्टान के बारे में कहा जाता है कि 1200 साल से यह एक ही स्थान पर स्थित है। पीएम मोदी और शी के बीच ऐसा लग रहा है कि चट्टान को लेकर कुछ चर्चा हुई। पीएम हाथ के इशारे से चट्टान के बारे में कुछ बताते हुए नजर आए। इसके बाद शी ने मुस्कुराकर कुछ उत्तर दिया। कैमरे के सामने दोनों नेताओं ने हाथ ऊपर उठाकर अभिवादन भी किया।
पल्लवों का बनाया पंच रथ भी देखा दोनों नेताओं ने
पीएम मोदी और शी चिनफिंग ने साथ में पंच रथ का भ्रमण किया। महाभारत के पात्रों के नाम पर पंच रथ बनाया गया है। इस दौरान पीएम और चीनी राष्ट्रपति ने कैमरे के सामने पोज भी दिया। कहा जाता है कि 7वीं शताब्दी में पल्लव राजाओं ने इसका निर्माण कराया था। इस पंच रथ को अद्भुत वास्तुकला के साथ संतुलन के लिहाज से अद्भुत माना जाता है। पंच रथ देखने के बाद कुछ देर के विश्राम के लिए मोदी और शी बैठे। इस दौरान भी पीएम मोदी चीन के राष्ट्रपति से कुछ चर्चा करते नजर आए और शी गंभीरता से उन्हें सुनते दिखे।
नारियल पानी खुद पीएम ने शी को भेंट किया
विश्राम के दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति के लिए नारियल पानी दिया गया। इस दौरान पीएम मोदी ने खुद अपने हाथों से नारियल का पानी और टिशू शी को बढ़ाया। इस दौरान दोनों नेताओं ने अपने साथ मौजूद एक चीनी स्टाफ से कुछ चर्चा की और नारियल पानी का लुत्फ उठाया।
शास्त्रीय संगीत के बीच शोर मंदिर का भ्रमण
समुद्र किनारे स्थित शोर मंदिर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी और शी चिनफिंग। इसके पूरब और पश्चिम दोनों ही दिशाओं में शिवमंदिर हैं जिनमें गर्भगृह और शिवलिंग स्थापित है। दोनों मंदिरों के बीच में एक छोटा सा मंदिर है जिसमें लेटे हुए विष्णु हैं। मंदिर प्रांगण में शास्त्रीय संगीत भी गूंज रहा है। शाम की सुंदर बेला में पीएम और शी ने ऐतिहासिक मंदिर का भ्रमण किया। समुद्री हवा और नमक के परिवेश के कारण मंदिर के पत्थर काफी धूमिल से हो गए हैं। पत्थरों पर कई सुंदर कलाकृति भी है, जिसकी ओर पीएम मोदी ने खास तौर पर इसारा किया।
प्रतिनिधिमंडल से शी और पीएम मोदी ने की भेंट
विदेश मंत्री एस. जयशंकर, विदेश सचिव विजय गोखले और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से भी औपचारिक मुलाकात शी चिनफिंग ने किया। पीएम मोदी ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल का परिचय कराया और शी चिनफिंग ने चीनी प्रतिनिधिमंडल का परिचय कराया। सबके लिए मंदिर प्रांगण में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश होगा।
फ्री ट्रेड, सीमा विवाद जैसे अहम मुद्दों पर चर्चा संभव
भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव और कश्मीर पर चीन के लगातार विरोधाभासी बयानों के बीच चेन्नै के नजदीक ममल्लापुरम में मोदी-शी शिखर बैठक काफी अहम है। वुहान के बाद दूसरी इनफॉर्मल समिट के अजेंडे में व्यापार, आसियान देशों के साथ प्रस्तावित फ्री ट्रेड, सीमा विवाद और 5 जी का मुद्दा प्रमुख होगा। कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है, लिहाजा पीएम मोदी इसकी चर्चा नहीं करेंगे। अगर शी चिनफिंग इसे छेड़ते हैं तो भारत उन्हें पक्ष से वाकिफ कराएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *