सीरिया के शरणार्थी Camps में बच्चों को काट रहे हैं चूहे

Syrian-Refugee-camps
सीरिया के शरणार्थी Camps में बच्चों को काट रहे हैं चूहे

दमिश्‍क। सीरिया में आतंकी और सेना के बीच चल रहे युद्ध ने हजारों लोगों को शरणार्थी बना दिया, Camps में जीने को मजबूर मासूमों को चूहे काट रहे हैं।

कैम्‍पों के पास खाद्य सामग्री के खाली पैकेट इकट्ठा होने से वहां चूहों की बाढ़ आ गई है और यह चूहे सो रहे बच्चों को काट रहे हैं। पहले से बेघर और बेसहारा हुए इन बच्चों को अब चूहों से दोहरी मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है।

लोग किस तहर से शरणार्थी कैम्पों के बदतर हालात में रहने को मजबूर हैं उसका यह नमूना सामने आया है। घटना लेबनान के बेक्का में बने शरणार्थी कैम्पों की है।
शरणार्थी कैम्पों में रह रहे इन बच्चों का भविष्य क्या होगा इस पर आशंका के बादल मढ़ रहे हैं। एक अंग्रेजी मीडिया हाउस को बच्चों ने अपना दर्द बयान किया है।

सीरिया गृहयुद्ध में झुलस रहा है और राष्‍ट्रपति बशर अल असद अपनी महात्‍वाकांक्षाओं को हवा देने में लगे हैं। गौरतलब है कि विगत 13 अप्रैल को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने सहयोगियों को कहा है कि अब समय आ गया है कि सीरिया के ‘बर्बर’ नागरिक युद्ध को खत्म कर दिया जाए. उन्होंने बशर अल असद को ‘कसाई’ बताया और संदिग्ध रासायनिक हमले में रूस की भूमिका पर सवाल खड़ा किया. नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग के साथ खड़े ट्रंप ने सहयोगियों से सीरिया में ‘तबाही का हल निकालने के लिए मिलकर काम करने’ का आह्वान किया और खान शेखुन में असद के संदिग्ध सेरिन (रसायन) हमले की आलोचना करने के लिए उनका शुक्रिया अदा किया.

ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, रासायनिक हथियारों के जरिए निर्दोष नागरिकों का बर्बरतापूर्ण संहार, छोटे और बेसहारा बच्चों की बर्बरता से हत्या, इसे हर उस राष्ट्र को बलपूर्वक अस्वीकार करना चाहिए जो मानव जीवन को महत्व देता है. उन्होंने कहा, वह कसाई है, कसाई, इसलिए मुझे लगता है कि इस बारे में हमें कुछ करना ही चाहिए. मुझे इस बात में कोई संदेह नहीं है कि हमने जो कुछ भी किया है वह सही है. और यह बहुत सफलतापूर्वक किया गया. ट्रंप ने कहा कि अब समय आ गया है जब इस बर्बर नागरिक युद्ध को खत्म किया जाए, आतंकियों को हराया जाए और शरणार्थियों को घर लौटने की इजाजत दी जाए.

रूस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के उस प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया था जो सीरिया को हमले की जांच में सहयोग करने को मजबूर करता. इसके बाद ट्रंप ने ये टिप्पणियां कीं.

ट्रंप ने कहा कि यह ‘निस्संदेह संभव’ है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को हमले की जानकारी हो. उन्होंने कहा, मैं यह सोचना चाहता हूं कि उन्हें इस बारे में पता नहीं हो लेकिन निश्चित उन्हें पता हो सकता है. वे लोग :रूस के सैनिक: वहीं थे. हम पता लगा लेंगे. संरा वोट से दूरी बनाने के लिए ट्रंप ने चीन की प्रशंसा की. -एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *