निःशुल्क दंत परीक्षण में बताए दांतों की देखभाल के तरीके

मथुरा। राजीव इंटरनेशनल स्कूल में निःशुल्क दंत परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान छात्र-छात्राओं के दांतों का निरीक्षण करने के साथ उन्हें चलचित्र के माध्यम से दांतों के प्रकार, उनके उपयोग, सुरक्षा और देखभाल आदि की जानकारी दी गई। इस दंत परीक्षण शिविर का मुख्य उद्देश्य छात्र-छात्राओं में स्वच्छता की भावना का विकास करना था।

दंत रोग विशेषज्ञों ने छात्र-छात्राओं को बताया कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है लिहाजा प्रत्येक छात्र को स्वच्छता के प्रति सचेत रहना चाहिए। चिकित्सकों ने छात्र-छात्राओं के दांतों का परीक्षण कर बीमारियों से बचाव और स्वच्छता के विषय में जानकारी दी। दंत चिकित्सकों ने छात्र-छात्राओं को बताया कि हम अपने दांतों की अच्छी देखभाल और नियमित सफाई कर हमेशा निरोगी रह सकते हैं।

चिकित्सकों ने बताया कि दांतों की सफाई के वक्त ब्रश भी दांतों की जड़ों में जमी गंदगी को साफ नहीं कर पाता। ऊपरी दांतों की सफाई करके हम छुपी हुई गंदगी को अनदेखा कर देते हैं। ऐसे में फ्लॉसिंग दांतों की अंदरूनी सफाई का एक बेहतर तरीका है। बाजार में फ्लॉसिंग के लिए अलग-अलग कम्पनियों के फ्लॉसिंग टूथपिक उपलब्ध हैं, लिहाजा धागे की जगह उनका इस्तेमाल किया जाना बेहतर होता है।

आर.के. एजूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने अपने संदेश में कहा कि दांत हमारे जीवन के लिए बहुत कीमती हैं। अतः सम्पूर्ण शरीर की स्वच्छता के साथ-साथ इनकी स्वच्छता को नजरअंदाज़ नहीं करना चाहिए।

चेयरमैन मनोज अग्रवाल ने कहा कि दांतों की स्वच्छता का हमारे शरीर की स्वच्छता से गहरा सम्बन्ध है  क्योंकि दांतों की स्वच्छता में शरीर की स्वच्छता निहित है। श्री अग्रवाल ने कहा कि इस शिविर का उद्देश्य छात्र-छात्राओं को दांतों की स्वच्छता से अवगत कराकर उन्हें स्वस्थ रहने के प्रति सजग बनाना है।

स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने कहा कि छात्रों को ज्ञानार्जन के साथ-साथ स्वच्छता की जानकारी प्रदान करना भी जरूरी है ताकि छात्र-छात्राएं भविष्य में भी अपनी स्वच्छता का ध्यान रखकर अपने अमूल्य जीवन को सुरक्षित और स्वस्थ रखने में सक्षम हों।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *