कुंभ से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का संदेश, पांच वर्ष लगेंगे राम मंदिर के निर्माण में

कुंभ से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का संदेश, पांच वर्ष लगेंगे राम मंदिर के निर्माण में
कुंभ से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का संदेश, पांच वर्ष लगेंगे राम मंदिर के निर्माण में

प्रयागराज। प्रयागराज में चल रहे कुंभ से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मोदी सरकार को अयोध्या में राम मंदिर पर नया संदेश भेजा है। संघ के सह-सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण 2025 में होगा। इसे केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार के लिए एक तंजभरा सिग्नल माना जा रहा है। हालांकि उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण का कार्य जल्‍द पूरा होना चाहिए, यह उनकी इच्छा है।
इस बीच आज कुंभ में संघ और विश्व हिंदू परिषद (VHP) की राम मंदिर के मुद्दे पर बड़ी बैठक चल रही है। संघ की ओर से इसमें सह-सरकार्यवाह भैयाजी जोशी शामिल हैं।
भैयाजी जोशी ने कहा, ‘मंदिर बने यह हमारी इच्छा है, यह कार्य जल्‍द पूरा होना चाहिए, यह भी हमारी इच्छा है। अब आगे का कार्य सरकार को करना है।’ उन्होंने कहा कि अगर आज मंदिर का निर्माण शुरू होता है तो 5 वर्ष तक पूरा हो जाएगा।
मंदिर के लिए 2025 की डेडलाइन केंद्र पर तंज!
इससे पहले गुरुवार को भैयाजी जोशी ने प्रयागराज में कहा, ‘1952 में सोमनाथ मंदिर की स्थापना के साथ देश गति से आगे बढ़ा, 2025 में राम जन्मभूमि के ऊपर मंदिर बनने के बाद फिर इस दिशा को और गति प्राप्त होने वाली है।’
उन्होंने कहा, ‘राम मंदिर राष्ट्र की चेतना का केंद्र है। करोड़ों करोड़ लोगों की श्रद्धा का केंद्र है, विश्वास का केंद्र है मंदिर तो हजारों हैं। और इस अयोध्या के मंदिर निर्माण के बाद देश अगले 150 सालों के लिए पूंजी प्राप्त करेगा।’
उन्होंने इस मौके पर यह भी कहा कि बिना अध्यादेश के राम मंदिर का निर्माण संभव नहीं है। बता दें कि भैयाजी जोशी इससे पहले भी सरकार से नाराजगी जता चुके हैं।
नए साल के मौके पर दिए गए इंटरव्यू में पीएम नरेंद्र मोदी के राम मंदिर मामले में फिलहाल अध्यादेश न लाने के बयान पर भैयाजी जोशी ने कहा था कि आरएसएस अपने रवैये पर अडिग है कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए कानून पारित किया जाए।
उन्होंने कहा कि उन्हें पीएम मोदी के बयान के बारे में नहीं पता है, लेकिन देश में हर कोई चाहता है कि राम मंदिर का निर्माण हो।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *