मायावती ने कहा, राहुल गांधी का ‘न्यूनतम आय की गारंटी’ वाला बयान फर्जी है

नई दिल्‍ली। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने मंगलवार को राहुल गांधी के “न्यूनतम आय की गारंटी” वाले बयान को लेकर उन पर निशाना साधा। मायावती ने कांग्रेस अध्यक्ष पर निसाना साधते हुए कहा ये भी गरीबी हटाओ की तरह फर्जी वादों में से एक है।
मायावती का राहुल पर निशाना
राहुल गांधी ने ओडिशा में सोमवार को कहा था कि अगर कांग्रेस 2019 लोकसभा चुनाव में सत्ता में आती है तो हर व्यक्ति का न्यूनतम आय सुनिश्चित किया जाएगा। कांग्रेस और सत्ताधारी बीजेपी दोनों को आड़े हाथों लेते हुए बीएसपी सुप्रीमो ने राहुल गांधी के वादों की तुलना 2014 में सत्ता में आने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से किए गए वादों से की।
न्यूज एजेंसी एएनआई ने मायावती का हवाला दिया है, जिसमें उन्होंने कहा- क्या ये भी उन फर्जी वादों में से एक है- ‘गरीबी हटाओ’ और वर्तमान सरकार के वादे- काला धन, 15 लाख और अच्छे दिन?
राहुल ने 2019 में जीत पर न्यूनतम आय का किया वादा
इससे पहले, छत्तीसगढ़ में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने यह वादा किया था कि अगर 2019 में कांग्रेस सत्ता में आती है तो देश के सभी गरीबों के लिए न्यूनत आय सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने इसे कांग्रेस चुनावी घोषणाओं में से इसे एक वादा करार दिया।
मायावती ने यहां एक बयान में कहा, ”वैसे भी विश्वसनीयता के मामले में कांग्रेस व बीजेपी दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड ऐसा अच्छा नहीं रहा है कि जनता इन पर आसानी से विश्वास कर ले। खासकर चुनावी वायदे व घोषणा-पत्र पर तो लोगों को बिल्कुल भी भरोसा नहीं रहा है। इस संबंध में कुछ फैसले अगर लागू भी हुये तो वे केवल दिखावटी ही साबित हुये हैं, जो जग-जाहिर है।”
लुभावनी घोषणा से देश आशंकित
उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की ओर से लोकसभा चुनाव से ठीक पहले इस लुभावनी घोषणा से पूरा देश आशंकित है कि सत्ता में आये तो देश में ग़रीबी व भूखमरी का अन्त करने के लिये न्यूनतम आय की गारण्टी सुनिश्चित करेंगे।
मायावती ने कहा कि इस घोषणा से पूरा देश चकित व आशंकित है कि कहीं यह भी उनके साथ वैसा ही छलावा व क्रूर मजाक तो नहीं है जो पूर्व की इनकी सरकारों ने किया है ।
उन्होंने कहा कि गरीबी हटाओ का बहुचर्चित नारा तथा वर्तमान में केन्द्र की बहुमत वाली बीजेपी सरकार का विदेश से कालाधन वापस लाकर देश के हर गरीब को 15 से 20 लाख रूपये देकर उनके अच्छे दिन लाने का लोक-लुभावन वायदा पूरी तरह से छलावा व वादाखिलाफी ही साबित हुआ है।
मायावती ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के प्रमुख को ऐसी कोई भी घोषणा व ऐसा कोई भी वायदा देश की जनता से करने के पहले जनहित, जनकल्याण व गरीबी उन्मूलन की उन योजनाओं को कांग्रेस शासित राज्यों में से खासकर राजस्थान, पंजाब, मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ में सही से लागू करके दिखाना चाहिये था ।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भाजपा द्वारा किसानों की दुर्दशा समाप्त कर उन्हें आत्महत्या की मजबूरी से मुक्ति दिलाने व उत्पाद का लाभकारी मूल्य दिलाने का वायदा भी केवल हवा-हवाई व छलावा साबित हुआ है। बसपा सुप्रीमो ने कहा, ”इसीलिये केवल सत्ताधारी बीजेपी को ही नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी को भी देश की आम जनता खासकर करोड़ों गरीबों, मजदूरों, किसानों व बेरोजगारों से ऐसा कोई भी वायदा नहीं करना चाहिये जो अन्ततः छलावा व धोखा साबित हो ।”
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *