मथुरा की पहलवान Neelam यूरोप में दिखाएगी अपना दमखम

मथुरा। यह कहना सच है कि सुविधाओं के अभाव में खेल प्रतिभा दम नहीं तोड़ती बस मन में कुछ करने का जज्बा होना चाहिए। इस बात को साबित कर रही है मथुरा की एक महिला पहलवान Neelam। थाना वृन्दावन की पुलिस चौकी जैंत क्षेत्र के अंतर्गत गांव फैंचरी निवासी उमरपाल सिरोही की पुत्री कुमारी Neelam मल्ल विद्या में ब्रज का जमकर नाम रोशन कर रही है।

नीलम को इस विधा का शौक अपनी ननिहाल नगला अबुआ ओल से लगा। उसका मामा राजू पहलवान जब कसरत करता था तो वह भी उसके साथ 13 वर्ष की आयु में कसरत करने लग जाती थी। हालांकि राजू इसका विरोध करता था मगर वह नहीं मानती थी।

नीलम ने पहलवानी करने की अपने पिता कुंवरपाल सिंह सिरोही, मां राजकुमारी से इच्छा जाहिर की। उन्होंने उसका समर्थन किया और पहलवानी करवाने के लिए उसके फूफा जिला कुश्ती संघ के महासचिव जनार्दन पहलवान के पास छोड़ दिया।

पहलवान ने नीलम को कसरत के तौर तरीके बताए और दांंव-पेंच सिखाना शुरू कर दिया। फिर क्या उसने धूम मचा दी। सितंबर 2017 में विश्व कैडेट चैम्पियनशिप में प्रतिभाग कर देश के लिए कांस्य पदक जीतकर सभी को चौंका दिया। इसके बाद 11 जुलाई 2019 को चौंनबुरी थाईलैंड में हुई जूनियर एशिया चेम्पियनशिप में हिस्सा लिया। मगर वह कोई पदक नहीं जीत सकी। अब उसका चयन इंडिया कैम्प लखनऊ से 50 किलोग्राम भार वर्ग में आगामी 12 से 18 अगस्त 2019 को स्टोनियां यूरोप में होने वाली जूनियर वर्ल्ड चेम्पियनशिप के लिए कर लिया गया है। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए 11 अगस्त को हवाईजहाज से रवाना हो जाएगी। उसकी बेहतरीन कामयाबी से पूरा परिवार फूला नहीं समा रहा और सभी जीत की दुआ करने में लगे हुए हैं।

नीलम ने बताया कि उसकी सफलता से गदगद होकर सेना के सेवानिवृत्त हवलदार बाबा तोताराम पहलवान, बाबा हरिदयाल सिंह, दादी राजेश ने सहयोग करने के लिए हाथ बढ़ाने शुरू कर दिए हैं। गांव के जो लोग पूर्व में मल्ल विद्या के नाम पर टीका-टिप्पणी किया करते थे। आज वही उसको भरपूर सम्मान दे रहे हैं। उसे अपनी कड़ी मेहनत पर भरोसा है कि इस विश्वस्तर की प्रतियोगिता से देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर ही लौटेगी।

फिलहाल वह कुश्ती का प्रशिक्षण अकेडमी JSW Sports Vijayanagar, Bellary कर्नाटक में ले रही है। नीलम ने कहा क‍ि जनपद की अन्य बालिकाओं को भी इस विधा के प्रति जागरुक होकर ब्रज का परचम लहराना चाहिए सहयोग करने के लिए वह हमेशा तैयार है।

  • ठाकुर रविकान्त तौमर
50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *