Pulwama हमले का मास्‍टरमाइंड सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के Pulwama में हुए आतंकी हमले के मास्टरमाइंड मुदस्सिर अहम खान को एक मुठभेड़ के दौरान आज ढेर कर दिया गया है। सुरक्षाबलों के लिए इसे बड़ी कामयाबी के रूप में देखा जा रहा है। जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों में कम चर्चित मुदस्सिर को Pulwama टेरर अटैक का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। जानकारी के मुताबिक पुलवामा के ही निवासी 23 साल का मुदस्सिर एक इलेक्ट्रिशन था और उसके पास ग्रेजुएट की डिग्री थी।
दक्षिण कश्मीर के Pulwama जिले के त्राल में आज हुए एक एनकाउंटर में तीन आतंकी मार गिराए गए। मारे गए आतंकियों में जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर मुदस्सिर अहमद खान उर्फ मोहम्मद भाई भी शामिल है।
जैश के कमांडर मुदस्सिर खान के परिवार ने उसके शव की शिनाख्त त्राल एनकाउंटर में मारे गए आतंकवादियों में से एक के रूप में की है। पुलिस ने आज यह जानकारी दी। अभी फॉरेंसिक रिपोर्ट के आने का इंतजार किया जा रहा है। एक अधिकारी ने कहा कि मारे गए आतंकवादियों में से एक की पहचान जेआईएम कमांडर मुदस्सिर खान उर्फ मोहम्मद भाई के रूप में की गई है।
उन्होंने बताया कि शवों के डीएनए परीक्षण किए जाएंगे। जिस घर में आतंकवादी छिपे हुए थे, सुरक्षाबलों के अभियान में वह घर पूरी तरह से नष्ट हो गया। सेना ने कहा है कि तीन आतंकवादी मारे गए हैं। हालांकि, पुलिस ने अभी तक सिर्फ दो शव बरामद किए हैं।
अधिकारियों का कहना है कि इस एनकाउंटर में मारे गए तीनों आतंकियों के शव बुरी तरह से जल गए हैं।
सुरक्षाबलों ने आतंकियों की मौजूदगी का खुफिया इनपुट मिलने के बाद पिंगलिश इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया। सर्च पार्टी पर जब घात लगाकर बैठे आतंकियों ने फायरिंग की तो यह अभियान एक एनकाउंटर में तब्दील हो गया। इसके बाद सुरक्षाबलों ने जवाबी फायरिंग करते हुए आतंकियों के खिलाफ कार्यवाही की।
अधिकारियों के मुताबिक Pulwama आतंकी हमले में इस्तेमाल की गई गाड़ी और विस्फोटक का इंतजाम उसी ने किया था।
त्राल के मीर मोहल्ले के रहने वाले मुदस्सिर ने 2017 में एक ओवरग्राउंड वर्कर के रूप में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद जॉइन किया था। बाद में उसे नूर मोहम्मद तांत्रे उर्फ नूर त्राली ने जैश में सक्रिय रूप से जिम्मेदारी सौंपी। नूर पर कश्मीर घाटी में आतंकी संगठनों को दोबारा उठ खड़े होने में मदद पहुंचाने का आरोप है।
आत्मघाती आतंकी आदिल के संपर्क में था मुदस्सिर
दिसंबर 2017 में तांत्रे के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद मुदस्सिर अपने घर से 14 जनवरी 2018 को फरार हो गया था। उसके बाद से ही वह जैश की साजिश में सक्रिय भूमिका निभा रहा था। अधिकारियों का कहना है कि वह आत्मघाती आतंकी आदिल अहमद डार के लगातार संपर्क में था। आदिल ने ही सीआरपीएफ के काफिले में चल रही बस में विस्फोटकों से लदी कार से टक्कर मारी थी।
स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुदस्सिर खान ने इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट (ITI) से इलेक्ट्रिशन का एक साल का डिप्लोमा कोर्स किया था। बताया जा रहा है कि एक मजदूर पिता का बेटा मुदस्सिर फरवरी 2018 में सुंजवां में हुए आतंकी हमले में भी शामिल था। इस अटैक में सुरक्षाबलों के छह जवान शहीद हो गए थे। इसके अलावा एक नागरिक की भी मौत हो गई थी।
NIA ने 27 फरवरी को घर पर मारा था छापा
जनवरी 2018 में लेथपोरा में सीआरपीएफ कैंप पर हुए आतंकी हमले में भी उसका नाम आया। इस हमले में पांच सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे। पुलवामा हमले की जांच कर रही एनआईए ने 27 फरवरी को मुदस्सिर के घर पर छापा मारा था।
पुलवामा में इस्तेमाल की गई मारुति इको मिनीवैन को जैश के ही एक संदिग्ध ने हमले से 10 दिन पहले खरीदा था। संदिग्ध की पहचान साउथ कश्मीर के बिजबेहारा के रहने वाले सज्जाद बट के रूप में हुई थी। हमले के बाद से ही सज्जाद फरार है और माना जा रहा है कि अब वह एक सक्रिय आतंकी बन चुका है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *