मनजिंदर सिंह सिरसा भाजपा में शामिल, शिरोमणि अकाली दल में हड़कंप

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) के प्रधान मनजिंदर सिंह सिरसा ने बुधवार को अचानक अपने पद से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया। दिल्ली में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, पार्टी के पंजाब चुनाव प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत, राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत गौतम सहित दूसरे नेताओं ने सिरसा को भाजपा में शामिल किया। इस मौके पर शेखावत ने कहा कि सिरसा के आने से पंजाब में 3 महीने बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को बड़ा फायदा होगा।
इस्तीफे के पीछे बताया निजी कारण
मनजिंदर सिंह सिरसा ने अपने इस्तीफे में DSGMC के सभी सदस्यों और महासचिव को संबोधित करते हुए लिखा कि वह निजी कारणों से प्रधान पद से त्यागपत्र दे रहे हैं। सिरसा ने इस्तीफे की कॉपी अपने ट्विटर हैंडल पर भी शेयर की।
सिरसा ने कहा कि वह अपने साथ काम करने वाले सभी सदस्यों, पदाधिकारियों और अन्य लोगों को बता देना चाहते हैं कि उन्होंने दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। वह भविष्य में दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी का चुनाव नहीं लड़ेंगे मगर अपने समुदाय, राष्ट्र और मानवता की सेवा पहले की तरह ही करते रहेंगे।
शिरोमणि अकाली दल में हड़कंप
मनजिंदर सिंह सिरसा के अचानक DSGMC प्रधान पद से इस्तीफा देने से शिरोमणि अकाली दल में हड़कंप सा मच गया। उनका भाजपा जॉइन कर लेना पंजाब में अकाली दल के लिए बड़ा झटका है क्योंकि सिरसा पार्टी के तेजतर्रार प्रवक्ता थे। अब उनके भाजपा में चले जाने से पंजाब में अकाली दल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
सिख कौम में दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का (DSGMC) बहुत अहम संस्था है। पंजाब विधानसभा चुनाव सिर पर हैं और ऐसे समय में अकाली दल के किसी वरिष्ठ नेता का यूं अचानक DSGMC जैसी संस्था के प्रधान पद से त्यागपत्र दे देना किसी के गले से नहीं उतर रहा।
चुनावी हार बनी इस्तीफे की वजह
मनजिंदर सिंह सिरसा के इस्तीफे की एक वजह पिछले दिनों DSGMC के चुनाव में उनके साथ हुए भितरघात को भी माना जा रहा है। इस चुनाव में अकाली दल को ताबड़तोड़ जीत मिली लेकिन अध्यक्ष पद का चेहरा रहे मनजिंदर सिंह सिरसा को हार का मुंह देखना पड़ा। बेशक अकाली दल प्रधान सुखबीर बादल ने हार के बावजूद सिरसा को फिर से DSGMC का प्रधान बना दिया मगर अंदर ही अंदर सिरसा काफी निराश चल रहे थे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *