ममता के मंत्री ने कहा, पश्चिम बंगाल में गोकशी पर रोक नहीं लगेगी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री और जमीयत उलेमा-ए-हिंद की राज्‍य इकाई के प्रमुख सिद्दीकुल्ला चौधरी के ताजा बयान पर विवाद हो गया है। चौधरी ने एक चैनल से बातचीत में कहा कि ‘बंगाल में 1,000-1,200 साल से गाय का मांस खाया जाता रहा है, इससे वोट का क्‍या मतलब है।’ उन्‍होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में गोकशी पर रोक नहीं लगेगी। तृणमूल कांग्रेस के नेता ने राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भी सवाल उठाए और कहा कि मुसलमान नरेंद्र मोदी को वोट नहीं देगा। उत्‍तर प्रदेश भाजपा के प्रवक्‍ता शलभ मणि त्रिपाठी ने चौधरी के इसी बयान का वीडियो शेयर कर लिखा है कि ऐसा बयान देने वाले ममता बनर्जी के राज में मंत्री हैं। उन्‍होंने कहा कि ‘अगर योगीराज होता तो रासुका लग जाती और जेल में बुरे दिन गिन रहे होते।’
‘बीफ के इम्‍पोर्ट-एक्‍सपोर्ट में शामिल हैं हिंदू’
चौधरी ने कहा, “यूपी के योगीजी आए थे। बोला अगर हम यहां सरकार में आएंगे तो गाय का गोश्‍त खाने पर पाबंदी लगाएंगे। बंगाल में हजार-बारह सौ साल से गाय का गोश्‍त खाया जा रहा है। मुसलमान भी खाते हैं… और भी खाते हैं… मुझे मालूम हैं। इससे वोट का क्‍या मतलब है? लेकिन उन्‍होंने यहां कलई खोल दी। हिंदू मानसिकता को बढ़ावा दिया तो इससे चेहरा दागदार नहीं हो रहा?” उन्‍होंने कहा, “बड़े-बड़े 5 स्‍टार में जो खिलाड़ी होते हैं, फिल्‍म एक्‍टर होते हैं, दूसरे मुल्‍क से हमारे यहां मेहमान आते हैं, वो बहुत अच्‍छे से बीफ खाते हैं। बीफ के एक्‍सपोर्ट-इम्‍पोर्ट में हिंदू भाई शामिल हैं। मुसलमानों के पास इतना पैसा नहीं।”
मोदीजी की ताकत SC पर भारी: चौधरी
ममता सरकार में मंत्री ने राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट के सुनाए फैसले पर भी सवाल उठाए। उन्‍होंने कहा, “बाबरी मजिस्‍द के मसले में (नरेंद्र) मोदी का चेहरा दागदार हो चुका है।” चौधरी ने कहा, “मोदीजी की ताकत सुप्रीम कोर्ट से भी भारी है। कॉलेजियम होता है, जस्टिस को कहां भेजना है, न भेजना है, फिर राष्‍ट्रपति की साइन लेना… इस तमाम खेल में मोदीजी शामिल है।” चौधरी ने कहा कि बाबरी भले ही चुनाव में मुद्दा बने न बने, लेकिन मुसलमान मोदी को वोट देने से पहले दस मर्तबा सोचेंगे। उन्‍होंने कहा कि ‘बाबरी मस्जिद के फैसले से मुसलमानों का दिल दुखा है।’
बीजेपी प्रवक्‍ता ने साधा निशाना
यूपी बीजेपी के प्रवक्‍ता शलभ मणि त्रिपाठी को चौधरी का यह बयान बेहद नागवार गुजरा। उन्‍होंने एक क्लिप शेयर करते हुए ट्वीट किया, “ममताराज है इसीलिए ऐसी जिहादी सोच वाले सिद्दीकुला रसूखदार मंत्री हैं। योगीराज होता तो रासुका लग चुकी होती, जेल में बुरे दिन गिन रहे होते। तय कर लीजिए। तथाकथित सहिष्णु बन कर अपनी संस्कृति का नाश कराना है, या प्रखर राष्ट्रभक्त बन हमारी संस्कृति पर आए खतरे का खुल कर मुकाबला करना है !!”
चौधरी ने तीन तलाक बिल का भी विरोध किया था। वह नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) की खिलाफत भी करते रहे हैं। उन्‍होंने दिसंबर 2019 में धमकी भरे लहजे में कहा था कि अगर CAA को वापस नहीं लिया गया तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह यहां (बंगाल) के दौरे पर आयेंगे तो उन्हें हवाई अड्डे से बाहर कदम नहीं रखने दिया जाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *