Malegaon केस: साध्वी प्रज्ञा को एनआईए की विशेष अदालत ने दी पेशी से छूट

नई दिल्ली। Malegaon ब्लास्ट केस में आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को एनआईए अदालत ने पेशी से छूट दी है। एनआईए की विशेष अदालत ने प्रज्ञा ठाकुर के अलावा Malegaon केस में आरोपी कर्नल प्रसाद पुरोहित और सुधाकर चतुर्वेदी को भी पेशी से छूट दे दी है। इन तीनों ने निजी समस्या और परेशानी बताते हुए अदालत से रियायत की मांग की थी।

गौरतलब है कि भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा और उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर से निर्दलीय उम्मीदवार सुधाकर चतुर्वेदी ने अपनी याचिकाओं में चुनावी व्यस्तताओं का हवाला दिया था जबकि कर्नल पुरोहित ने कुछ व्यक्तिगत परेशानियां बताई थीं। कोर्ट ने पेशी से छूट के साथ आरोपियों के वकीलों को विस्फोट स्थल पर जाने की अनुमति भी दी है।

बता दें कि इससे पहले आरोपियों की कोर्ट में मौजूद नहीं रहने पर मुंबई की स्पेशल एनआईए अदालत ने सख्त नाराजगी जताई थी। कोर्ट ने सभी आरोपियों को सुनवाई के दौरान सप्ताह में एक बार कोर्ट रूम में हाजिरी लगाने का निर्देश दिया था।

अदालत ने पिछले साल अक्टूबर में मालेगांव धमाकों के सातों आरोपियों के खिलाफ आतंकी गतिविधियों, आपराधिक षड्यंत्र और हत्या की धाराओं में आरोप तय किए थे। गौरतलब है कि मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को एक मस्जिद के निकट हुए विस्फोट में छह लोगों की मौत हो गई थी और 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे।

इससे पहले 18 मई को हुई सुनवाई में एनआईए अदालत का प्रज्ञा ठाकुर समेत सभी आरोपियों को हर हफ्ते पेश होने का आदेश दिया था।

मालेगांव बम धमाका मामले की सुनवाई कर रही मुंबई स्थित एनआईए की विशेष अदालत ने भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर और लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित सहित सभी सातों आरोपियों को सप्ताह में एक बार अदालत में पेश होने का शुक्रवार को आदेश देते हुए उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि ठोस कारणों के बिना मांगी गई छूट के अनुरोध को खारिज कर दिया जाएगा। इस समय अदालत मामले के गवाहों के बयान दर्ज कर रही है।

सुनवाई के दौरान आरोपियों के बार-बार गैरहाजिर होने पर नाराजगी जताते हुए एनआईए अदालत के जज विनोद पाडलकर ने यह आदेश दिया। मामले की अगली सुनवाई कल 20 मई को हुई।

मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को एक मस्जिद के पास हुए विस्फोट में छह लोगों की मौत हो गई थी और 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे। -एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *