चीन के खिलाफ अमेरिका की बड़ी कार्यवाही, दर्जनों चीनी कंपनियां ब्‍लैकलिस्‍ट

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी विदाई से पहले चीन के खिलाफ कड़े तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। शुक्रवार को अमेरिका ने चीन की सबसे बड़ी चिपमेकर कंपनी सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन (एसएमआईसी) और ड्रोन निर्माता एसजेड डीजेआई टेक्नोलॉजी सहित दर्जनों चीनी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट कर दिया। ये कंपनियां अब न तो अमेरिका में कोई व्यापार कर पाएंगी, न ही अपनी प्रॉपर्टी और बैंक बैलेंस का उपयोग कर सकेंगी।
अमेरिका ने इन कंपनियों से राष्ट्रीय सुरक्षा को बताया खतरा
अमेरिका ने चीन की इन कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए प्रतिबंधित किया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल के दिनों में चीन के खिलाफ कई बड़े फैसले लिए हैं। जिसके कारण अमेरिका और चीन में आर्थिक और सैन्य तनातनी बढ़ने की संभावना और ज्यादा हो गई है। दोनों देश पहले ही साउथ चाइना सी, हॉन्ग कॉन्ग, ताइवान और जासूसी जैसे मामलों को लेकर भिड़े हुए हैं।
चीनी सेना के साथ काम कर रही हैं ये कंपनियां
अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने कहा कि एसएमआईसी के खिलाफ कार्यवाही सैन्य उद्देश्यों के लिए असैनिक प्रौद्योगिकियों के इस्तेमाल को लेकर की गई है। यह कंपनी चीनी सैन्य औद्योगिक कंपनियों के साथ मिलकर चीन की सेना के लिए काम कर रही है। अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने यह भी कहा कि चीन ने हमारे उन्नत तकनीकियों का इस्तेमाल अपनी सेना को आधुनिक बनाने में किया है और हम ऐसा होते हुए नहीं देख सकते हैं।
अमेरिका में व्यापार करने पर लगी पाबंदी
अमेरिका ने अपने बयान में कहा है कि इन कंपनियों को एक्सपोर्ट-कंट्रोल एंटिटी लिस्ट में शामिल किया गया है। ये अब अमेरिका के साथ कोई भी व्यापार नहीं कर पाएंगे। हम हर उस चीनी कंपनी के खिलाफ कार्यवाही करेंगे, जिसके संबंध चीन की सेना से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा अमेरिका अब चीन की शिपबिल्डिंग कंपनियों पर भी प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहा है।
चीन के खिलाफ और बड़े फैसले ले सकता है अमेरिका
अमेरिका ने दावा किया है कि दुनिया की सबसे बड़ी ड्रोन कंपनी डीजेआई, एजीसीयू साइंटेक, चाइना नेशनल सांटिफिक इंस्ट्रूमेंट्स एंड मैटेरियल्स और कुंग-ची ग्रुप चीनी सेना के साथ मिलकर काम कर रही हैं। जो व्यापक पैमाने पर मानवाधिकारों के हनन के लिए जिम्मेदार है। वहीं, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि अमेरिका के माल और प्रौद्योगिकियों के शोषण से रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *