महाराष्ट्र: CM के पास बैठने को लेकर मंत्रियों में खींचतान

मुंबई। महाराष्ट्र में महा विकास आघाड़ी सरकार के ऊपर से संकट के बादल छंटते नजर नहीं आ रहे हैं। मंत्रियों को पोर्टफोलियो बांटने में करीब एक महीने की देरी के बाद अब खबर आई है कि कई मंत्री अपने पोर्टफोलियो से खुश नहीं हैं। साथ ही उन्हें कैबिनेट में सीटिंग अरेजमेंट से भी समस्या है। कैबिनेट मीटिंग के दौरान CM के बगल में बैठने को लेकर मंत्रियों में खींचतान जारी है।
मंगलवार को कैबिनेट मीटिंग के दौरान कांग्रेस नेता और कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण और एनसीपी नेता छगन भुजबल में CM के पास बैठने को लेकर बहसबाजी हो गई।
दरअसल, CM जब कैबिनेट मीटिंग की अध्यक्षता करते हैं तो उनके आसपास बैठने वाले मंत्रियों को उनकी वरिष्ठता के आधार पर सीट आवंटित की जाती है।
छगन को CM उद्धव के पास बैठाने से अशोक अव्हाण नाराज
छगन भुजबल को CM उद्धव ठाकरे के करीब बैठाए जाने से कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण नाराज हो गए। उनका मानना था कि उन्हें पूर्व CM होने के नाते छगन भुजबल (एक पूर्व उप मुख्यमंत्री) से ज्यादा महत्व दिया जाना चाहिए था। हालांकि छगन भुजबल ने सीट को लेकर हुए ऐसी किसी बहस से साफ इंकार किया।
भुजबल ने कहा, ‘चव्हाण तो मेरे ही चैंबर में थे क्योंकि अभी उन्हें चैंबर अलॉट नहीं हुआ है। हम तो साथ-साथ ही कैबिनेट मीटिंग में गए थे।’ इससे पहले शिवसेना नेता और राजस्व राज्य मंत्री अब्दुल सत्तार ने कैबिनेट मिनिस्टर न बनाए जाने को लेकर नाराजगी जताई थी और इस्तीफे की पेशकश की थी।
लंबी खींचतान के बाद मंत्रियों में बंटे विभाग
बता दें कि लंबी खींचतान के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने छह मंत्रियों के साथ 29 नवंबर 2019 को CM पद की शपथ ली थी। CM को अपने शुरुआती मंत्रियों को पोर्टफोलियो बांटने में 14 दिन लग गए। इसके 18 दिन बाद उन्होंने कैबिनेट विस्तार किया और उसके भी 5 दिन बाद बाकी मंत्रियों में विभाग बांटे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *