भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कराने के लिए महंत परमहंस दास का आमरण अनशन

अयोध्‍या। अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की मांग को लेकर सोमवार सुबह 5 बजे से आमरण अनशन शुरू कर दिया है। परमहंस दास का कहना है कि भारत में हिंदुओं की संख्या किसी अन्य धर्म के लोगों से ज्यादा है इसलिए भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिए।

अनशन पर बैठे महंत परमहंस दास ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक और धारा 370 को समाप्त कर यह साबित कर दिया है कि देश हित में वह कुछ भी कर सकते हैं। अब उन्हें भारत को हिंदू राष्ट्र भी घोषित कर देना चाहिए।
उन्होंने कहा कि जब देश का बंटवारा हुआ तो सर्वाधिक आबादी के आधार पर पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र घोषित किया गया था लेकिन भारत आज भी हिंदू राष्ट्र घोषित नहीं हो पाया है इसलिए मेरी मांग है कि भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए। इसके अलावा पाकिस्तान और बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं को भारत वापस लाकर उन्हें यहां की नागरिकता प्रदान की जाए।
महंत परमहंस दास ने कहा कि मेरा मानना है कि अगर भारत में अल्पसंख्यक समुदाय अपनी आबादी बढ़ाता रहा तो एक दिन ऐसा आएगा जब अल्पसंख्यक फिर देश के विभाजन की बात करेगा। इससे एक बार फिर देश का बंटवारा होने का खतरा बना रहेगा।

‘मांग पूरी न होने तक अन्न, जल का त्याग कर यूं ही आमरण अनशन पर बैठा रहूंगा’

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक मेरी मांग स्वीकार नहीं की जाएगी तब तक मैं अन्न, जल का त्याग कर यूं ही आमरण अनशन पर बैठा रहूंगा। वहीं, आमरण अनशन को लेकर जिला प्रशासन बेहद सतर्क है। अयोध्या जिला प्रशासन ने उनकी सुरक्षा को लेकर सशस्त्र पुलिसकर्मियों की तैनाती की है।

बता दें कि परमहंस दास इससे पहले अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर आमरण अनशन कर चुके हैं। जिसके बाद से वह चर्चा में आए। राम मंदिर के लिए अनशन के दौरान उन्हें समझाने के लिए प्रदेश सरकार के कई मंत्री अयोध्या गए थे। बाद में उनकी हालत खराब होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका अनशन तुड़वाया था। राम मंदिर का शिलान्यास 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर चुके हैं। प्रदेश सरकार दिव्य भव्य अयोध्या के निर्माण के लिए पूरा प्रयास कर रही है। उम्मीद की जा रही है कि 2024 तक अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पूरा हो जाएगा।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *