महंत नरेंद्र गिरि केस: आनंद गिरी, आद्या व संदीप को 5 दिन की CBI रिमांड पर भेजा

प्रयागराज। अल्‍लापुर स्‍थ‍ित मठ बाघंबरी गद्दी के महंत और अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में जेल में बंद तीन आरोपियों की 5 दिन की रिमांड सोमवार को सीजेएम कोर्ट से मंजूर हो गई है। अब CBI टीम आनंद गिरी, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी से पूछताछ करेगी। सीबीआई ने मठ में प‍िछले 13 घंटे की पड़ताल में 13 लोगों से पूछताछ की है।

वहीं, CBI ने बीते दिन रविवार सुबह 11 बजे से देर रात तक मठ बाघंबरी गद्दी में छानबीन की थी। जिस कमरे में महंत नरेंद्र गिरि का शव मिला था। वहां क्राइम सीन का री-क्रिएशन किया गया। CBI ने नरेंद्र गिरि द्वारा सुसाइड नोट में मठ का उत्तराधिकारी बनाए गए महंत बलवीर गिरि से पूछताछ की।

इसके अलावा, लेटे हनुमान मंदिर की व्यवस्था देख रहे अमर गिरि, सेवादार बबलू, सुमित और धनंजय समेत मठ में काम करने वाले कुल 13 सेवादारों से पूछताछ की। CBI ने कमरे का ताला खुलवाकर महंत के कमरे की एक-एक चीज और कागजों की पड़ताल की है। महंत की कुछ डायरियों और कागजातों को कब्जे में भी सीबीआई ने लिया है।

सुसाइड नोट में था आनंद, आद्या और संदीप का नाम
20 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरि के कमरे में मिले सुसाइड नोट के आधार पर इन तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। तीनों पर नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल करने का आरोप था। नरेंद्र गिरि ने लिखा था कि मैं इन तीनों के व्यवहार से दुखी होकर आत्महत्या कर रहा हूं।

हरिद्वार से हुई थी आनंद गिरि की गिरफ्तारी
आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार कर यूपी पुलिस को 21 सितंबर को हैंडओवर कर दिया गया था। अगले दिन 22 सितंबर को आनंद को मजिस्ट्रेट के सामने रिमांड के लिए पेश किया गया था। पुलिस ने लेटे हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी व उनके बेटे महंत की सुरक्षा में तैनात सिपाही संदीप तिवारी को प्रयागराज से ही गिरफ्तार किया था।

आद्या प्रसाद तिवारी व संदीप तिवारी को 23 सितंबर को मजिस्ट्रेट के यहां पेश किया गया था। इसके बाद तीनों को 15 दिन की न्यायिक हिरासत में नैनी सेंट्रल जेल में भेज दिया था। अभी तीनों आरोपी नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *