पंजाब के फाजिल्का में टिड्डी दल का हमला, 13 घंटे बाद मिली राहत

बठिंडा। पंजाब के फाजिल्का जिले में तीन किमी चौड़े और एक किमी लंबे टिड्डी दल ने हमला बोल दिया। किसान की फसलों पर मंडराते खतरे को देखते हुए राज्य सरकार के अलग-अलग विभागों द्वारा रातभर 13 घंटे लंबा अभियान चलाया गया और मुसीबत का खात्मा किया गया।
राजस्थान और पाकिस्तान में तबाही मचाने के बाद ये टिड्डी दल पंजाब में घुस आए हैं। पिछले कुछ दिनों में क्षेत्र में टिड्डी देखे गए थे लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब इतनी बड़ी संख्या में पंजाब में टिड्डी दल का आक्रमण हुआ हो।
टिड्डियों के झुंड ने फाजिल्का के बकेनवाला और रूपनगर गांव में हमला बोला जो राजस्थान और पाकिस्तान सीमा के पास स्थित है। इससे परेशान किसानों ने राज्य कृषि विभाग से संपर्क किया। कृषि विभाग के अधिकारियों ने दावा किया कि झुंड से फसलों को किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ और किसी भी तरह के खतरे को निष्प्रभावी कर दिया गया।
कृषि विभाग ने पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी (पीएयू), बीएसएफ, अग्निशमन विभाग, पुलिस, सिविल ऐडमिनिस्ट्रेशन, होर्टिकल्चर और किसानों की मदद से ऑपरेशन चलाया।
400 से 500 टन कीटनाशक का इस्तेमाल
पंजाब कृषि विभाग के निदेशक स्वतंत्र कुमार ने बताया कि टिड्डों को खत्म करने के लिए करीब 400 से 500 टन कीटनाशकों का इस्तेमाल किया गया। उन्होंने यह भी कहा कि टिड्डी दल पाकिस्तान की तरफ से पंजाब में आया था। पंजाब अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (कृषि) विश्वजीत खन्ना ने बताया कि टिड्डियों के झुंड को खत्म कर दिया गया है।
उन्होंने बताया कि ‘टिड्डियों के सफाए के लिए बूमर स्प्रे, ट्रैक्टर माउंटेड हाइ वेलॉसिटी स्प्रे और एक अग्निशमन विभाग की गाड़ी का अभियान में इस्तेमाल किया गया।
रात 10 बजे से सुबह 9 बजे तक चला अभियान
यह साझा अभियान रविवार रात 10 बजे से लेकर सोमवार सुबह 9 बजे तक चला। एक किसान मुक्तियार सिंह ने कहा कि वह फसलों के नुकसान को झेलने की स्थिति में नहीं हैं। राज्य सरकार को टिड्डियों को कंट्रोल करने के लिए कुछ करना चाहिए। रूपनगर के किसान जोगिंदर सिंह ने सबसे पहले रात में पेड़ों से चिपके बड़ी संख्या में टिड्डियों को देखा था। उन्होंने बताया, हालांकि ज्यादातर टिड्डियों को खत्म कर दिया गया, हमें इस बात की चिंता है कि टिड्डी गांव में प्रवेश करके फसलों को बर्बाद न कर दें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *