लॉकडाउन: UGC ने 8 गाइडलाइंस के साथ जारी किया नया एकेडेमिक कैलेंडर

नई दिल्‍ली। लॉकडाउन के कारण बिगड़े शैक्षणिक सत्र को पटरी पर लाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग UGC ने नया एकेडेमिक कैलेंडर जारी किया है। इसके साथ ही 8 दिशानिर्देश भी दिए गए हैं। ये गाइडलाइंस क्या हैं, इसके बारे में आपको यहां बताया जा रहा है।
क्या हैं 8 गाइडलाइंस
1. लॉकडाउन के कारण हुए शैक्षणिक सत्र के नुकसान की भरपाई के लिए सभी यूनिवर्सिटीज 6 वीक डे पैटर्न अपना सकती हैं। यानी सप्ताह में 5 की जगह 6 दिन क्लासेज कराए जा सकते हैं।
2. सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखना जरूरी है, लेकिन स्टूडेंट्स को लैबोरेटरी असाइनमेंट्स, प्रैक्टिकल एक्सपेरिमेंट्स का एक्सपोजर देना भी जरूरी है। इसके लिए यूनिवर्सिटीज वर्चुअल लैबोरेटरीज की मदद ले सकती हैं। यानी लैब वर्क के वीडियोज के जरिए प्रशिक्षण दिया जा सकता है। इसके लिए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने वर्चुअल लैब्स का लिंक भी उपलब्ध कराया है।
3. हर संस्थान को वर्चुअल क्लासरूम विकसित करना चाहिए। संस्थानों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा होनी चाहिए। सभी शिक्षकों को इन तकनीकों का इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग भी देनी चाहिए।
4. यूनिवर्सिटीज को ई-कंटेंट व इ-लैब एक्सपेरिमेंट्स तैयार कर उन्हें अपनी वेबसाइट पर अपलोड करना चाहिए ताकि स्टूडेंट्स घर बैठकर भी इनका लाभ ले सकें।
5. यूनिवर्सिटीज को मेंटर-मेंटी काउंसलिंग प्रणाली बनाना व मजबूत करना चाहिए। इसके लिए हर यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर एक समर्पित पोर्टल हो, जिससे स्टूडेंट्स को समय-समय पर मार्गदर्शन और काउंसलिंग की सुविधा मिलती रहे।
6. यूनिवर्सिटीज अपने सभी कर्मचारियों व स्टूडेंट्स के ट्रैवल और स्टे का रिकॉर्ड रख सकती हैं। ये जानने के लिए कि संस्थान न आने के दौरान वे कहां थे ताकि जरूरत महसूस होने पर सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाए जा सकें और कोरोना वायरस संक्रमण को रोका जा सके।
7. भविष्य में ऐसी किसी भी परिस्थिति/चुनौती का सामना करने के लिए यूनिवर्सिटीज को अपने फैकल्टीज को इनफॉर्मेशन व कम्यूनिकेशन टूल्स (ICT) की अच्छी ट्रेनिंग देनी चाहिए ताकि वे कम से कम 25 फीसदी सिलेबस ऑनलाइन टीचिंग के जरिए पूरा करने में सक्षम हो सकें।
8. वर्तमान हालात और भविष्य के अनिश्चितताओं को देखते हुए यूनिवर्सिटीज को ये छूट भी दी गई हैं-
इन दिशा-निर्देशों को जरूरत के अनुसार कुछ बदलावों के साथ लागू कर सकते हैं लेकिन पारदर्शिता बरकरार रहनी चाहिए और बदलाव स्टूडेंट्स, शैक्षणिक संस्थान और शिक्षा व्यवस्था के हित में होने चाहिए।
अगर वर्तमान नीतियों के अनुसार एडमिशन की प्रक्रिया पूरी करने में दिक्कत आती है तो यूनिवर्सिटीज इसमें कुछ बदलाव कर सकती हैं। बस वह कानूनी तौर पर सही होना चाहिए।
अगर शैक्षणिक संस्थान ऐसी जगह पर हैं जहां सरकार ने ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर रोग लगाई है तो संस्थान हालात के अनुसार अपनी योजना बनाने के लिए स्वतंत्र हैं। लेकिन ये सिर्फ तब किया जा सकता है जब उपरोक्त निर्देशों से हल न निकले।
एकेडेमिक कैलेंडर: जानें कब होंगे एग्जाम, कब से नया सेशन
इस साल देश के विभिन्न कॉलेजों, विश्वविद्यालयों में एग्जाम कब लिए जाएंगे? नया सेशन कब से शुरू होगा? एडमिशन की प्रक्रिया किस तरह पूरी की जाएगी?
इन सभी सवालों के जवाब में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने एक नया एकेडेमिक कैलेंडर जारी कर दिया है।
ये कैलेंडर उन गाइडलाइंस के तौर पर जारी किया गया है, जो यूजीसी ने कुछ दिन पहले अपने दो पैनल्स द्वारा सौंपी गई रिपोर्ट की समीक्षा के बाद तैयार किए हैं। इसमें ये बताया गया है कि कोरोना वायरस (Covid-19) और लॉकडाउन (Lockdown) के कारण बिगड़े शैक्षणिक सत्र को किस तरह पटरी पर लाया जा सकता है।
ये कैलेंडर व गाइडलाइंस केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक की उपस्थिति में जारी किए गए हैं। इसकी खास बातें यहां बताई जा रही हैं।
इंटरमीडिएट स्टूडेंट्स का क्या
यूजीसी ने कहा है कि जिन कॉलेजों में इंटरमीडिएट (11वीं) के एनुअल एग्जाम नहीं हुए हैं, वहां स्टूडेंट्स को इंटर्नल असेसमेंट के आधार पर प्रमोट कर दिया जाए।
कैसे होंगे एग्जाम
सभी टर्मिनल, एंड सेमेस्टर, ईयर एग्जाम संसाधनों के अनुसार ऑफलाइन या ऑनलाइन मोड पर लिए जा सकते हैं। यूनिवर्सिटीज परीक्षा के नए तरीके अपना सकती हैं। परीक्षा का समय 3 घंटे से घटाकर 2 घंटे किया जा सकता है। हालांकि सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ख्याल रखना होगा। यूनिवर्सिटीज ये परीक्षाएं जुलाई 2020 में ले सकती हैं।
2019-20 के लिए नया कैलेंडर
सेमेस्टर की शुरुआत – 1 जनवरी 2020
क्लासेस सस्पेंड – 16 मार्च 2020
ऑनलाइन क्लासेस – 16 मार्च 2020 से 31 मई 2020
डिजर्टेशन, प्रोजेक्ट वर्क, इंटर्नशिप, आदि – 1 जून से 15 जून 2020
समर वैकेशन – 16 जून से 30 जून 2020
टर्मिनल सेमेस्टर / ईयर एग्जाम – 1 जुलाई से 15 जुलाई 2020
इंटरमीडिएट सेमेस्टर / ईयर एग्जाम – 15 जुलाई से 31 जुलाई 2020
टर्मिनल सेमेस्टर / ईयर रिजल्ट – 31 जुलाई 2020
इंटरमीडिएट सेमेस्टर / ईयर रिजल्ट – 14 अगस्त 2020
2020-21 (नए सेशन) के लिए यूजीसी कैलेंडर
क्लासेस शुरू (सेकंड व थर्ड ईयर के लिए) – 1 अगस्त 2020
पहले सेमेस्टर / ईयर का नया बैच शुरू – 1 सितंबर 2020
परीक्षाएं – 1 जनवरी 2021 से 25 जनवरी 2021
ईवन सेमेस्टर क्लासेस शुरू – 27 जनवरी 2021
ईवन सेमेस्टर क्लासेस खत्म – 25 मई 2021
परीक्षाएं – 26 मई 2021 से 25 जून 2021
समर वैकेशन – 1 जुलाई 2021 से 30 जुलाई 2021
नया सेशन – 2 अगस्त 2021 से
यूजीसी ने पैनल की सिफारिश को मानते हुए नए एडमिशन के लिए शैक्षणिक सत्र सितंबर 2020 से शुरू करने का निर्देश दिया है। जबकि जो स्टूडेंट्स सेकंड या थर्ड ईयर में हैं, उनका नया सेशन अगस्त 2020 में शुरू होगा।
एमफिल, पीएचडी के लिए निर्देश
यूजीसी ने एमफिल व पीएचडी स्टूडेंट्स ने लिए भी बड़ी राहत दी है। टीचर्स एसोसिएशन की मांग मानते हुए एमफिल व पीएचडी स्टूडेंट्स को डिजर्टेशन/थीसिस जमा करने के लिए 6 महीने का अतिरिक्त समय दे दिया है।
साथ ही यूनिवर्सिटीज से कहा है कि इन कोर्सेज के लिए वायवा एग्जाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *