राजीव एकेडमी में साइबर सिक्योरिटी पर हुआ व्याख्यान

मथुरा। राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट के BSC (CS) विभाग में आज साइबर सिक्योरिटी-द कटिंग एज (Cyber Security – The Cutting Edge) पर एक टेक्निकल व्याख्यान का ऑनलाइन आयोजन किया गया। साइबर इंडिया (Cyber India) के रीजनल डायरेक्टर रुचिर वर्मा ने छात्र-छात्राओं को आई.टी. युग में स्वयं के डाटा को सुरक्षित रखने तथा यदि डाटा चोरी हो जाये तो उसे पुनः प्राप्त करने के तरीके बताए। उन्होंने कहा कि आई.टी. के विद्यार्थी को यह सब पहले से ही आना चाहिये अन्यथा वह कार्यक्षेत्र में स्वयं को पिछड़ा महसूस करेगा।

श्री वर्मा ने बीएससी (सीएस) के छात्र-छात्राओं को साइबर फ्रॉड से सावधान करते हुए उन्हें बैंक, फाइनेंस, डेबिट, क्रेडिट कार्ड से संबंधित फ्रॉड से बचाव के तरीके भी बताए। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से क्राइम के बारे में जानकारी देते हुए साइबर अपराधों से बचाव के बारे में भी महत्वपूर्ण बातें बताईं। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में ऑनलाइन धोखाधड़ी बहुत बढ़ती जा रही है और साइबर अपराध भी उसी अनुपात में बढ़ रहे हैं, लिहाजा हमें हर पल सावधान रहने की जरूरत है। श्री वर्मा ने कहा कि हमारे पास ऐसे टूल्स हैं जिनकी सहायता से हम डाटा हैकिंग को रोक सकते हैं।

श्री वर्मा ने कहा कि आजकल हमने डायरी बनाना छोड़ दिया है, यह ठीक नहीं है। समय के साथ चलना अच्छा है लेकिन पुरानी बातों पर अमल भी जरूरी है। हम अपने सभी व्यक्तिगत और आफीसियल्स डाटा इंटरनेट पर रखते हैं। यदि ये डाटा कभी गलती से भी किसी के हाथ पड़ गये तो बहुत नुकसान हो सकता है। ऐसे में हम कुछ प्रोटोकॉल या नियमानुसार दूसरा डाटा लेते हैं जिसे ऐथिकल हैकिंग कहा जाता है जिसकी मदद से हम अपने डाटा को सुरक्षित कर सकते हैं ताकि पुनः हमारा डाटा चोरी न हो सके। उन्होंने समस्त छात्र-छात्राओं द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दिए। इस व्याख्यान में छात्र-छात्राओं के साथ-साथ उनके शिक्षक भी लगातार जुड़े रहे। संस्थान के निदेशक डॉ. अमर कुमार सक्सेना ने छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि उन्होंने साइबर सिक्योरिटी के विषय में जो भी ज्ञान हासिल किया है, उसे अमल में भी लाएं।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *