जानिए: ”Fastag” कैसे करेगा टोल प्‍लाजा पर काम

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने और राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल प्लाजा पर भीड़ को कम करने के लिए Fastag लागू होने वाला है। जानिए इससे जुड़ी हर अहम बात।
अगले महीने की पहली तारीख यानी 1 दिसंबर से जब आप किसी टोल प्लाजा से गुजरेंगे तो आपको अपनी गाड़ी रोककर टोल के लिए पैसे नहीं चुकाने होंगे। आपकी गाड़ी के शीशे पर लगे आरएफआईडी Fastag से ही पैसे कट जाएंगे। यह बिलकुल वैसा ही है, जैसे कि आप प्रीपेड कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। यह नियम 1 दिसंबर से राष्ट्रीय राजमार्गों के सभी टोल प्लाजा पर लागू हो जाएगा।
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि 1 दिसंबर 2019 से Fastag लागू होगा। इस योजना का नाम ‘वन नेशन वन टैग’ या ‘एक राष्ट्र एक टैग’ दिया गया है। टोल प्लाजा से गुजरने वालीं गाड़ियां अगर Fastag लेन से गुजरती हैं तो टोल के लिए उन्हें रुकना नहीं पड़ेगा।
आरएफआईडी तकनीक कैसे करेगी काम
इस खास तकनीक को रेडियो फ्रीक्वेंसी आईडेंटिफिकेशन या आरएफआईडी कहते हैं। Fastag में एक खास चिप लगी होती जिसमें सारी जानकारियां होती हैं। राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थित सभी टोल प्लाजा पर कुछ खास लेन होंगी, जो इस चिप को पढ़ने की तकनीक से लैस होंगी। टोल प्लाजा पर खास सेंसर इस चिप को पढ़ लेगा और फिर चिप से अपने आप टोल का भुगतान हो जाएगा। आप इसे इलेक्ट्रॉनिक या डिजिटल रूप से टोल भुगतान भी कह सकते हैं। आरएफआईडी के टोल प्लाजा में इस्तेमाल के लिए इसमें पहले से पैसे डाले जा सकते हैं।
टोल प्लाजा पर भीड़ घटेगी
आमतौर पर जब लोग अपनी गाड़ी लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरते हैं तो उन्हें जगह-जगह पर रुककर टोल चुकाने पड़ते हैं। ऐसे में फास्टैग गाड़ी पर लगा होने से रुकने की जरूरत नहीं होगी और आप आसानी से टोल पार कर लेंगे। इससे टोल प्लाजा पर अक्सर लगने वाला जाम भी खत्म होगा। इसके अलावा यात्रा में लगने वाले समय की भी बचत होगी। कई बार इसी वजह से बहुत ज्यादा समय का नुकसान होता है।
टोल प्लाजा पर शुल्क वसूलने के लिए निजी कंपनियों को ठेका मिलता है, टोल वसूलने के लिए वह अलग-अलग लेन बनाती है। कार, ट्रक और बस के लिए खास लेन होती हैं, ऐसे में जब टोल पर कोई वाहन चालक पैसे देता है तो उसके एवज में टोल कर्मचारी रसीद देता है। Fastag होने से कागज की बचत होगी और पर्यावरण को कम नुकसान होगा। वाहन के नहीं रुकने से प्रदूषण कम होगा और ईंधन भी बचेगा।
कैसे खरीदें Fastag?
Fastag खरीदने के लिए आपको ज्यादा मेहनत की जरूरत नहीं है। फिलहाल राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) 1 दिसंबर तक इसे मुफ्त में बांटेगा। उसके बाद आप Fastag किसी काउंटर पर जाकर खरीद सकते हैं। अगर आप एनएचआई के काउंटर नहीं जा सकते तो आप निजी या सरकारी बैंकों की चुनिंदा शाखाओं से खरीद सकते हैं। ऑटोमोबाइल डीलर अब नई गाड़ियों में पहले से ही Fastag लगाकर दे रहे हैं। कुछ निजी ई-कॉमर्स कंपनियां भी इसे बेच रही है।
अगर आप Fastag खरीदने की सोच रहे हैं तो आपको इन बातों का ध्यान रखना होगा। आपको एक फॉर्म के साथ गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, वाहन मालिक की पासपोर्ट साइज तस्वीर, केवाईसी (नो योर कस्टमर) कागजात जैसे ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, आधार या मतदाता पहचान पत्र की कॉपी के फॉर्म जमा करने होंगे।
कैसे करेंगे इस्तेमाल?
जब आप Fastag खरीद लें तो उसको गाड़ी के शीशे पर लगाने से पहले उस पर लगा प्लास्टिक हटा दें और उसको गाड़ी के शीशे पर चिपका दें। पहली बार इस्तेमाल करने वाले को टैग को ऑनलाइन वैलेट से जोड़ना पड़ेगा। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मोबाइल ऐप से भी इसे रिचार्ज कर सकते हैं।
यूरोप, अमेरिका समेत कई देशों में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल होता आया है। लोग फर्राटे के साथ टोल प्लाजा पर बिना किसी रुकावट के पार हो जाते हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *