तीसरे दिन कीवी टीम का स्‍कोर 5 विकेट के नुकसान पर 140 रन

टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के सामने 540 रनों का टारगेट रखा है, जिसका पीछा करते हुए कीवी टीम का स्कोर तीसरे दिन के खत्म होने तक 5 विकेट के नुकसान पर 140 रन है। हेनरी निकोल्स 36 और रचिन रवींद्र 2 रन बनाकर नाबाद है। भारत की ओर से आर अश्विन अभी तक कुल 3 विकेट हासिल कर चुके हैं। मैच में अभी दो दिन का खेल बाकी है और भारतीय टीम जीत से 5 विकेट दूर है। वहीं, NZ को मैच जीतने के लिए 400 रन और बनाने हैं।
फिफ्टी बनाकर आउट हुए मिचेल
55 पर 3 विकेट गंवाने के बाद डेरिल मिचेल और हेनरी निकोल्स ने न्यूजीलैंड की पारी को संभाला। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 111 गेंदों पर 73 रन जोड़े। इस पार्टनरशिप को अक्षर पटेल ने मिचेल (60) को आउट कर तोड़ा। मिचेल ने 92 गेंदों पर 60 रन बनाए। टेस्ट क्रिकेट में उनके ये दूसरा अर्धशतक रहा। NZ अभी इस झटके से उबर भी नहीं पाई थी कि विकेटकीपर टॉम ब्लंडल (0) रन आउट हो गए।
ब्लंडल ने मिड ऑफ की दिशा शॉट लगाया था और रन लेने के लिए दौड़ पड़े थे। हालांकि दूसरे छोर से हेनरी निकोल्स ने उन्हें रन के लिए मना किया था। कीवी खिलाड़ियों के बीच तालमेल की कमी का फायदा केएस भरत ने बखूबी उठाया और गेंद को उठा कर तेजी से कीपर के पास थ्रो किया। इस तरह से NZ ने अपना 5वां विकेट गंवाया।
रिव्यू के चलते बच गए निकोल्स
19वें ओवर की आखिरी गेंद पर अश्विन ने हेनरी निकोल्स के खिलाफ LBW की अपील। अंपायर ने भी आउट करार दिया। निकोल्स ने DRS लिया और रिप्ले में नजर आया कि गेंद बल्ले पर लगने के बाद पैड पर लगी थी। निकोल्स को रिव्यू NZ के काम आया और वह नॉटआउट रहे।
25वें ओवर फेंक रहे उमेश यादव की चौथी गेंद पर हेनरी निकोल्स के खिलाफ LBW की अपील हुई, जिसे अंपायर ने नकार दिया। हालांकि बाद में रिप्ले में नजर आया की गेंद स्टंप्स को हिट कर रही थी। अगर टीम इंडिया रिव्यू ले लेती, तो निकोल्स के रूप में कीवी टीम का चौथा विकेट गिरता। इससे पहले 23वें ओवर की दूसरी गेंद पर भारत ने एक रिव्यू गंवाया था। दरअसल, उमेश की गेंद पर डेरिल मिचेल के खिलाफ विकेटकीपर कैच की अपील की गई। कोहली ने उमेश के कहने पर रिव्यू लिया। हालांकि साहा उससे सहमत नहीं दिख रहे थे। रिप्ले में नजर आया कि गेंद बल्ले से नहीं पैड पर लगकर गई थी।
कीवी टीम की खराब शुरुआत
टारगेट का पीछा करते हुए NZ की शुरुआत खराब रही और कीवी कप्तान टॉम लाथम (6) रन बनाकर आर अश्विन की गेंद पर LBW आउट हो गए। लाथम रिव्यू लिया, लेकिन इसका फैसला टीम इंडिया के हक में ही रहा। दूसरे विकेट के लिए डेरिल मिचेल और विल यंग ने 32 रन जोड़कर टीम की पारी को पटरी पर लाने का काम किया, लेकिन अश्विन ने यंग (20) को आउट कर भारत को दूसरी सफलता दिलाई। यंग के विकेट के साथ ही आर अश्विन इस साल 50 टेस्ट विकेट लेने वाले पहले बॉलर भी बन गए।
अश्विन यही नहीं रुके और अपने अगले ही ओवर में रॉल टेलर (6) का विकेट लेकर NZ को तीसरा झटका पहुंचाया।
अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट में 8वीं बार लाथम को आउट किया।
अश्विन ने चौथी बार एक साल में 50 टेस्ट विकेट हासिल किए।
रॉस टेलर भारत में खेली 19वीं टेस्ट पारी में 13वीं बार स्पिनर की गेंद पर आउट हुए।
IND के दोनों ओपनर्स चोटिल
दूसरी पारी में बल्लेबाजी करते हुए मयंक अग्रवाल के दाहिने हाथ में चोट लग गई। उन्हें ऐहतियात के तौर पर मैदान में न उतरने की सलाह दी गई है। वहीं, शुभमन गिल भी मैच के दूसरे दिन फील्डिंग के दौरान उंगली में लगी चोट के कारण तीसरे दिन मैदान पर फील्डिंग के लिए नहीं आए हैं।
भारतीय ने 276 पर घोषित की पारी
टीम इंडिया ने दूसरी पारी 276/7 के स्कोर पर घोषित की। पहली पारी में 150 रन बनाने वाले ओपनर मयंक अग्रवाल (62) दूसरी पारी में भी टॉप स्कोरर रहे। साथ ही चेतेश्वर पुजारा (47) और शुभमन गिल (47) ने भी अच्छा स्कोर बनाया। पहली पारी में सभी 10 विकेट लेकर इतिहास रचने वाले एजाज पटेल ने दूसरी पारी में भी 4 विकेट अपने नाम किए।
एजाज पटेल (14/225) वानखेड़े में किसी भी गेंदबाज का ये सबसे बढ़िया प्रदर्शन रहा।
अक्षर पटेल 26 गेंदों पर नाबाद 41 रन बनाए।
पूरे मैच में भारत के कुल 17 विकेट गिरे और ये सभी कीवी टीम के लेफ्ट आर्म स्पिनर्स ने चटकाए।
58 पारियों से शतक का इंतजार
वानखेड़े टेस्ट में विराट कोहली ने दमदार प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन पहली पारी में वह शून्य और दूसरी पारी में 36 पर आउट होकर पवेलियन लौटे। विराट ने इंटरनेशनल क्रिकेट में दो साल पहला शतक लगाया था और आज की पारी को मिलाकर कुल 58 पारियां और 744 दिन हो गए, जब भारतीय कप्तान के बल्ले से शतक देखने को नहीं मिला।
रचिन रवींद्र ने कोहली को बोल्ड किया। इसके बाद रचिन ने भारतीय पारी का छठा और अपना तीसरा विकेट ऋद्धिमान साहा (13) के रूप में चटकाया। एजाज ने मैच में अपना 14वां और आखिरी विकेट जयंत यादव (6) को आउट कर हासिल किया।
फिर अर्धशतक से चूके गिल
दूसरी पारी में शुभमन गिल 75 गेंदों पर 47 रन बनाकर आउट हुए। उनका विकेट रचिन रवींद्र के खाते में आया। पहली पारी में भी गिल 44 के स्कोर पर आउट होकर पवेलियन लौटे थे। तीसरे विकेट के लिए गिल और कप्तान कोहली ने 144 गेंदों पर 82 रन जोड़े। भारत का चौथा विकेट एजाज पटेल ने श्रेयस अय्यर (14) को आउट कर हासिल किया।
शुभमन गिल के रूप में रचिन रवींद्र ने अपनी पहली टेस्ट विकेट हासिल की।
टॉम ब्लंडल ने श्रेयस अय्यर को स्टंप आउट किया। टेस्ट क्रिकेट में ये उनकी पहली स्टंपिंग रही।
मिले जीवनदान का फायदा नहीं उठा सके पुजारा
34वें ओवर की आखिरी गेंद पर चेतेश्वर पुजारा LBW आउट हुए। पुजारा ने DRS लिया और रिप्ले में नजर आया की गेंद स्टंप्स की लाइन में जरूर थी, लेकिन विकेट से काफी ऊपर थी, जिसके चलते पुजारा नॉटआउट रहे। हालांकि वह मिले जीवनदान का फायदा नहीं उठा सके और 47 रन बनाकर एजाज की गेंद पर आउट हुए।
पुजारा ने पिछली 42 पारियों से शतक नहीं लगाया है।
एजाज के लिए यादगार टेस्ट
इस टेस्ट की दोनों पारियों में भारत के कुल 17 विकेट गिरे, जिसमें एजाज पटेल के खाते में 14 विकेट आए हैं। पहली पारी में सभी 10 विकेट का रिकॉर्ड बनाने वाले एजाज के लिए ये मुकाबला कभी न भुलाने जैसा है। एजाज भारत में खेले एक टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिन गेंदबाज भी बन गए हैं।
मयंक ने खेली दमदार पारी
24वां ओवर फेंक रहे टिम साउदी ने तीसरी गेंद पर मयंक अग्रवाल के खिलाफ LBW की अपील, जिसे अंपायर ने आउट करार दिया। मयंक ने बिना देरी किए रिव्यू लिया और रिप्ले में साफ दिखा कि गेंद बैट पर लगने के बाद पैड पर लगी थी। मयंक नॉटआउट रहे। अगले ही ओवर में उन्होंने 89 गेंदों पर अपनी फिफ्टी पूरी की। इसके बाद 28वें ओवर की पहली गेंद पर पुल शॉट खेलने के प्रयास में गेंद मयंक की कोहनी के पास लगी और वह काफी दर्द में भी नजर आए। मयंक ने शानदार बैटिंग करते हुए 62 रनों की पारी खेली। उनका विकेट एजाज पटेल के खाते में आया।
वानखेड़े में एक टेस्ट की दोनों पारियों में 50+ स्कोर बनाने वाले मयंक भारत के चौथे ओपनर बने।
ये पहला मौका है, जब मयंक अग्रवाल ने एक टेस्ट की दोनों पारियों में 50+ का स्कोर बनाया हो।
मयंक अग्रवाल (62) टेस्ट में ये उनका 5वां अर्धशतक रहा।
वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में ये तीसरा मौका है, जब मयंक एक टेस्ट में कम 200 रन बनाए हो। रोहित शर्मा (2) और कैप्टन कोहली (1) बार ऐसा कर चुके हैं।
भारत में सबसे कम स्कोर
मैच के दूसरे दिन न्यूजीलैंड पहली पारी में 62 रनों पर ही ऑलआउट हो गई। कीवी टीम का भारत के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में ये सबसे कम स्कोर रहा। इससे पहले साल 2002 में न्यूजीलैंड भारत के खिलाफ 94 पर ऑलआउट हुई थी। इतना ही नहीं किसी भी भारतीय सरजमीं पर भी यह टेस्ट में सबसे कम स्कोर रहा। साल 1987 में टीम इंडिया वेस्टइंडीज के खिलाफ दिल्ली टेस्ट में 75 पर ऑलआउट हुई थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *