केशव प्रसाद मौर्य के बयान से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सरगर्मी

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बयान से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सरगर्मी तेज गई है। मौर्य ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा कि अब मथुरा की तैयारी है। सीनियर बीजेपी नेता केशव ने कहा कि अयोध्या और काशी में भव्य मंदिर का निर्माण जारी है।
डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अपने ट्वीट में कहा, ‘अयोध्या और काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है। मथुरा की तैयारी है।’ मौर्य के इस बयान से बीजेपी और आरएसएस के एजेंडे में हमेशा से शामिल अयोध्या, मथुरा, काशी के मुद्दे को लेकर अब अटकलें तेज हो गई है।
मौर्य ने अपने ट्वीट के साथ ही #जय_श्रीराम, #जय_शिव_शम्भू और #जय_श्री_राधे_कृष्ण का हैशटैग भी लगाया। इससे पहले मथुरा में दक्षिणपंथी संगठनों ने शाही ईदगाह में 6 दिसंबर को भगवान कृष्ण की प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की है। इस ऐलान के बाद मथुरा में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यह मस्जिद कृष्ण जन्मस्थान मंदिर के नजदीक है।
इससे पहले केशव प्रसाद मौर्य ने एक चैनल से बातचीत में कहा कि अयोध्या में भगवान रामलला के भव्य मंदिर निर्माण से भक्तों में खुशी है। जैसा कि हम लोग आंदोलन के समय नारा लगाते थे कि अयोध्या हुई हमारी, अब काशी-मथुरा की बारी। काशी और मथुरा दोनों हमारी हैं। काशी में कॉरिडोर बन चुका है। अब कृष्ण जन्मभूमि की बारी है। ये सारा काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में और जनता के आशीर्वाद से हो रहा है।
कोर्ट में याचिकाएं भी हुई थीं दायर
बता दें कि ईदगाह में प्रतिमा की स्थापना की धमकी तब सामने आई थी, जब स्थानीय कोर्ट ने 17वीं शताब्दी की मस्जिद को हटाने वाली कई याचिकाओं पर सुनवाई की थी। पुलिस ने इस बारे में बताया कि किसी भी तरह के कार्यक्रम के लिए कोई इजाजत नहीं दी गई है और न ही दी जाएगी।
समझौते के बीते 53 साल
मथुरा में कौमी एकता मंच के सदस्यों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से 6 दिसंबर को सुरक्षा प्रदान करने का अनुरोध किया। मंच के संस्थापक मधुवन दत्त चतुर्वेदी ने कहा कि शाही ईदगाह और श्री कृष्ण जन्मस्थान संस्थान के प्रबंधकों के बीच साइन हुए समझौते को करीब 53 साल बीत गए हैं। हमें इसे नहीं तोड़ना चाहिए।
अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा ने मामले पर कहा कि इस मुद्दे को बेवजह उठाया जा रहा है और सभी पार्टियों को सचेत रहने की आवश्यकता है, क्योंकि यूपी में जल्द ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। पिछले साल जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य वासुदेवानंद सरस्वती ने अयोध्या के बाद काशी विश्वनाथ और मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि को मुक्त कराने की बात कही थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *