कोरोना संक्रमितों के लिए सबसे सुरक्षित है KD हॉस्पिटल

मथुरा। आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधाओं, विशेषज्ञ डॉक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ के प्रयासों से इन दिनों KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर ब्रज मण्डल में कोरोना संक्रमितों के लिए सबसे सुरक्षित चिकित्सा संस्थान माना जा रहा है। आरटी-पीसीआर मशीन लगने के बाद KD हॉस्पिटल के प्रति कोरोना संक्रमितों का विश्वास और प्रगाढ़ हो गया है। अब तक यहां 71 वृद्ध, 9 शिशु, 11 गर्भवती महिलाओं सहित कुल 214 कोरोना संक्रमित स्वस्थ होकर अपने-अपने घर लौट चुके हैं।

corona-pateint in KD-Hospital
Corona pateint discharged from in KD Hospital

आर. के. एजुकेशन हब के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल लगातार चिकित्सकों के सम्पर्क में रहते हुए पल-पल व्यवस्थाओं की न केवल जानकारी लेते रहते हैं बल्कि कोरोना संक्रमितों को किसी बात की परेशानी न हो इसके निर्देश भी देते हैं। उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल का कहना है कि वैक्सीन के अभाव में भी KD हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने दो सौ से अधिक कोरोना संक्रमितों को नया जीवन देकर निःसंदेह सराहनीय कार्य किया है।

विभागाध्यक्ष निश्चेतना और क्रिटिकल केयर डॉ. एपी भल्ला का कहना है कि KD हॉस्पिटल की सर्वसुविधायुक्त गहन चिकित्सा इकाई और यहां के डॉक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ की टीमभावना के चलते ही नाजुक स्थिति तक पहुंच जाने वाले कोरोना संक्रमित भी यहां से स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं। मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. सौरभ सिंघल का कहना है कि यहां से स्वस्थ होकर लौटने वालों में हर आयुवर्ग के लोग शामिल हैं। KD हास्पिटल से वृद्धों के साथ ही डायबिटीज, ब्लडप्रेशर, हृदय रोगी, थाइराइड, किडनी, फेफड़े आदि से पीड़ित कोरोना संक्रमित भी स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं।

कोविड सेण्टर प्रमुख डॉ. गौरव सिंह का कहना है कि KD हॉस्पिटल से अब तक 214 कोरोना संक्रमित स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। इनमें वृद्ध, युवा, शिशु और महिलाएं शामिल हैं। डॉ. सिंह का कहना है कि KD हास्पिटल में कोरोना संक्रमितों पर डॉ. एपी भल्ला, डॉ. सौरभ सिंघल, डॉ. प्रदीप कुमार पाढ़ी, डॉ. अम्बरीश, डॉ. मयंक माथुर, नर्सेज तथा पैरामेडिकल कर्मचारियों द्वारा चौबीसो घण्टे सतत नजर रखी जाती है। बुधवार को स्वस्थ होकर अपने घर लौटने वालों ने बातचीत में बताया कि KD हॉस्पिटल की आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधाएं, डाक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ के सेवाभाव के चलते ही उन्हें नई जिन्दगी मिली है। डीन डॉ. रामकुमार अशोका, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. राजेन्द्र कुमार, ओएसडी डॉ. लोकेश अग्रवाल, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी अरुण अग्रवाल लगातार डॉक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारियों के सेवाभाव की तारीफ करते हुए उनका हौसला बढ़ाते रहते हैं।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *