जय वाजपेई के खिलाफ कार्यवाही की फाइल तीन साल से दबाए बैठी थी पुलिस

कानपुर। उत्तर प्रदेश का कानपुर के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के खजांची जय वाजपेई के खिलाफ कार्यवाही की फाइल कानपुर पुलिस पिछले 3 साल से दबाए बैठी थी।
अब पुलिस इस फाइल को निकालकर कार्यवाही के मूड में आ गई है। ईओडब्ल्यू के एएसपी केसी गोस्वामी ने जांच के बाद रिपोर्ट दूसरे विभागों को भेजे जाने की पुष्टि की है।
वकील सौरभ भदौरिया ने 2017-18 में कानपुर के तत्कालीन आईजी आलोक सिंह को शिकायत दी थी कि जय, उसके भाई रजय और कुछ अन्य की आय से ज्यादा संपत्तियां हैं।
यही नहीं, आपराधिक केस होने के बावजूद इन्हें पासपोर्ट और हथियारों के लाइसेंस जारी किए गए हैं। कन्नौज के तत्कालीन एएसपी केसी गोस्वामी ने इसकी जांच कर रिपोर्ट में आरोप सही बताते हुए पासपोर्ट व हथियार लाइसेंस सहित एक दरोगा के आचरण पर भी सवाल उठाए थे।
परिवार के पास 6 लाइसेंस
पड़ताल में सामने आ रहा है कि 60 से ज्यादा एफआईआर होने के बावजूद विकास, उसकी पत्नी, पिता, भाई और उसकी पत्नी, नौकर दयाशंकर को हथियार लाइसेंस जारी किए गए थे। अब इन हथियारों की बरामदगी के लिए शनिवार को भी गांव के तालाब से पानी निकाला जाता रहा लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा।
एनकाउंटर का सीन दोहराया
लखनऊ से आए फरेंसिक विशेषज्ञों की मौजूदगी में शनिवार को भौंती में प्रभात और सचेंडी में विकास दुबे एनकाउंटर का सीन दोहराया गया। हालांकि, टीम ने विकास एनकाउंटर के पहले गाड़ी पलटने के सीन का पुनर्निर्माण नहीं किया। उधर, तथ्यों की पड़ताल के लिए आईजी अमिताभ ठाकुर ने डीजीपी एचसी अवस्थी से बिकरू जाने की अनुमति मांगी है। वह 13 जुलाई को पत्नी नूतन ठाकुर के साथ बिकरू जाना चाहते थे, लेकिन डीजीपी ने उन्हें रास्ते से लौटने को कह दिया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *