सचिन वाझे की गिरफ्तारी पर कंगना ने शिवसेना को टारगेट किया

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत पिछले काफी समय से महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार को निशाने पर लिए हुए हैं अब सचिन वाझे केस में कंगना ने एक बार फिर सरकार को टारगेट करते हुए ट्वीट किया है।
कंगना रनौत अपनी फिल्मों से ज्यादा सोशल मीडिया पर अपनी बयानबाजी के लिए चर्चा में रहती हैं। पिछले काफी समय से कंगना रनौत लगातार महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार को टारगेट कर रही हैं। अब कंगना रनौत ने एक बार फिर शिवसेना पर निशाना साधते हुए सरकार की आलोचना की है। कंगना ने यह आलोचना सचिन वाझे के केस में की है जिन्हें मुकेश अंबानी के घर पर विस्फोटक मिलने के मामले में गिरफ्तार किया गया है।
सचिन वाझे पर कंगना ने क्या लिखा?
कंगना ने एक न्यूज़ चैनल के ट्वीट को रीट्वीट किया है जिसमें बताया गया है कि सचिन वाझे को 25 फरवरी को मुकेश अंबानी के घर एंटीला के बाहर विस्फोटक मिलने के मामले में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने गिरफ्तार कर लिया है। कंगना ने इस ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा, ‘मेरे एक्स-रेज यह जान सकते हैं कि यहां बहुत बड़ी साजिश है। यह पुलिसवाला जो सस्पेंड था, शिवसेना के सत्ता में आने के बाद ये उसे वापस ले आए। अगर ठीक से जांच की जाए तो बहुत से भेद सामने आ जाएंगे मगर इससे महाराष्ट्र में सरकार भी गिर जाएगी। मुझे ऐसा भी लग रहा है कि मेरे ऊपर 200 और एफआईआर की जाएंगी। आने दो इन्हें, जय हिंद।’
शिवसेना से कंगना का 36 का आंकड़ा
बता दें कि पिछले काफी समय से कंगना रनौत और महाराष्ट्र की सत्ताधारी पार्टी शिवसेना के बीच 36 का आंकड़ा बना हुआ है। कंगना ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से कर दी थी और मुंबई पुलिस के बारे में बहुत कुछ लिखा था। इसके बाद कंगना और शिवसेना के नेता संजय राउत के बीच काफी जुबानी जंग चली थी। बाद में इस मामले में कंगना के ऊपर राजद्रोह का मुकदमा भी किया गया था।
कंगना के ऑफिस में भी हुई थी तोड़फोड़
शिवसेना के साथ जुबानी जंग के बाद बीएमसी ने कंगना के ऑफिस में जमकर तोड़फोड़ भी की थी। बीएमसी ने कहा था कि कंगना ने गैरकानूनी तरीके से अपने ऑफिस में कुछ कंस्ट्रक्शन कराया था। हालांकि जब यह मामला हाई कोर्ट में पहुंचा था तो वहां कंगना को राहत देते हुए बीएमसी को ही कटघरे में खड़ा किया गया था। कंगना पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने का मामला भी चल रहा है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *