कंगना ने चाइनीज ऐप्स को बैन करने के फ़ैसले का समर्थन किया

नई दिल्‍ली। कंगना रनोट ने भारत सरकार के चाइनीज ऐप्स को बैन करने के फ़ैसले का समर्थन किया है। कंगना का कहना है भारत-चीन के बीच चल रहे तनाव के दौरान लिया गया यह फ़ैसला एक मजबूत संदेश देगा।
कंगना ने इस मुद्दे पर एक बयान जारी किया है, जिसमें उन्होंने कहा- “सरकार ने चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है और मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग जश्न मना रहे हैं क्योंकि चीन कैसा है हम सभी जानते हैं। यह एक साम्यवादी देश है और हमारी अर्थव्यवस्था और हमारी सिस्टम में गहरे तक उतर गये हैं।
डेटा डरावना है, हमारा व्यवसाय किस हद तक चीन पर निर्भर हो गया है और इस साल कोरोना फैलाने के साथ दुनिया को हाल के समय की सबसे बड़ी मुश्किल में डाला है। अब वे हमारी सीमाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं और वे केवल लद्दाख नहीं चाहते, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम भी चाहते हैं। वे आपका असम भी चाहते हैं और यह कभी खत्म नहीं होने वाला।
कंगना ने आगे कहा, मैं उनके तरीकों से सहमत नहीं हूं और जाहिर है कि उन्होंने इस महामारी और जैव युद्ध के साथ दुनिया को अपना असली चेहरा भी दिखा दिया है। उनकी अर्थव्यवस्था उन्हें ताकत दे रही है इसलिए बेहतर है कि हम भारत में उनकी जड़ों को काट दें और जब इतना राजस्व और पैसा नहीं होगा, तो उनकी ताकत कम होगी।
कंगना ने हमेशा लोगों से लोकल को सपोर्ट करने की वकालत की है। “प्राचीन काल में जब भारत दुनिया का नेतृत्व करता था तो दुनिया एक समृद्ध और समावेशी जगह थी। मेरा मानना ​​है कि हमें उस समय में वापस जाने की आवश्यकता है। भारत सही नेतृत्व करा है। चाहे वो धर्म, जिसका हम पालन करते हैं या फिर हो भाषाओं और धर्मों की विविधता हो।
भारत सही मायनों में लीडर है। अगर ये कम्युनिस्ट लोग लीडर बन जाते हैं, पूंजीवादी लोग लीडर बन जाते हैं, यही दुनिया बनने जा रही है। सभी जैव-युद्ध और आर्थिक लाभ के बारे में सोचेंगे। इसलिए मुझे लगता है कि आध्यात्मिक विरासत है और इतिहास के साथ सही वर्ल्ड लीडर है, जिसकी फिलॉस्फी में बलिदान और दुनिया की स्वीकार्यता है। इसलिए मुझे लगता है कि हमें ऐसे समय का लाभ उठाना चाहिए। चीन को दुनिया भर से नफ़रत मिल रही है। इसलिए हमें हमले की अगुवाई करनी चाहिए। यह ठीक है कि चीन आपको सब कुछ सस्ता और घटिया दे सकता है। हमें वो नहीं लेना है। हमने सस्ते और घटिया के नतीज़ों को देखा है। हमें अपने लोगों को प्रेरित करना है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *