काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में शाम‍िल

तेलंगाना का काकतीय मंदिरों की श्रृंखला का रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर अब यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में शाम‍िल कर ल‍िया गया है। विश्व धरोहर समिति (यूनेस्को) की विस्तारित 44वीं बैठक 16 से 31 जुलाई के बीच चीन के फ़ूज़ौ में ऑनलाइन आयोजित की गई ज‍िसमें काकतीय हेरिटेज ट्रस्ट के एम. पांडुरंगा राव के अनुसार हमने यूनेस्को द्वारा मांगे गए बहुत सारे दस्तावेज भेजे थे। हमने अरबी, स्पेनिश, चीनी, फ्रेंच, रूसी और अंग्रेजी में भी वीडियो भेजे ज‍िसके बाद बैठक हुई और रामप्पा मंदिर को विश्व विरासत स्थल का टैग मिला।

2014 में विश्व धरोहर स्थलों की अस्थायी सूची में जोड़ा गया था

गौरवशाली काकतीय मंदिरों और गेटवे को 2014 में विश्व धरोहर स्थलों की अस्थायी सूची में जोड़ा गया था और इसमें तीन धारावाहिक स्थल शामिल थे। स्वयंभू मंदिर के अवशेष और कीर्ति थोराना, वारंगल किला, हजार स्तंभ मंदिर, हनमकोंडा और रामप्पा मंदिर, पालमपेट। “बाद में, इस नामांकन को केवल ‘काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर’ में संशोधित किया गया क्योंकि हमने महसूस किया कि अन्य साइटों में 100 मीटर निषिद्ध क्षेत्र बनाना संभव नहीं है,” श्री राव ने कहा।

यूनेस्को के अधिकारियों की एक टीम ने सितंबर 2019 में रामप्पा मंदिर स्थल का दौरा किया था और कुछ स्पष्टीकरण मांगा था। विश्व निकाय ने भारत से नामांकन के दृष्टिकोण को फिर से परिभाषित करने के लिए ICOMOS (International Council on Monuments and Sites) से सलाह भी ली गई ज‍िसमें काकतीय हेरिटेज ट्रस्ट को कहा गया कि‍ वे “रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर के व्यापक संदर्भ को शामिल करने के लिए नामांकन दृष्टिकोण को फिर से परिभाषित करें और तदनुसार वास्तुशिल्प और इंजीनियरिंग संरचनाओं के साथ-साथ प्राकृतिक विशेषताओं को शामिल करने के लिए नामित संपत्ति की सीमाओं और बफर जोन को बढ़ाएं जो ऐतिहासिक बनाते हैं।

विश्व निकाय ने धार्मिक संदर्भ के साथ-साथ मंदिर का आर्थिक और कार्यात्मक आधार के तुलनात्मक विश्लेषण के लिए भी कहा, रामप्पा झील, जल चैनलों और छोटे मंदिरों के संरक्षण के दृष्टिकोण का विस्तार करने के साथ-साथ रामप्पा झील के पास विकास परियोजनाओं का विरासत प्रभाव आंकलन भी किया।

विश्व निकाय ने “कामेश्वर मंदिर के पुन: संयोजन और संरक्षण के लिए एक अनुसूची और विस्तृत कार्यप्रणाली” भी मांगी थी। रामप्पा मंदिर के दाहिनी ओर के खंडित कामेश्वर मंदिर को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा ध्वस्त कर दिया गया था, लेकिन अभी तक बहाल नहीं किया गया है।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *