कल से जयपुर में लगेगा साहित्य का महाकुंभ JLF

जयपुर। सहित्य का महाकुंभ JLF 2020 (Jaipur Literature Festival ) गुरुवार से शुरू होगा। जयपुर के डिग्गी पैलेस होटल में पांच दिवसीय जेएलएफ का उद्घाटन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सुबह 10 बजे करेंगे। जेएलएफ में इस बार देश-दुनिया के 550 वक्ता शामिल होंगे। इनमें हर साल की तरह इस बार भी वक्ताओं के तौर पर लेखक, राजनेता, फिल्मी दुनिया से जुड़ी हस्तियां और पत्रकार कला, संविधान, फैशन, राजनीति, अर्थव्यवस्था, जलवायु परिवर्तन, करेंट अफेयर्स, लेखन, समाज और जीवित भाषाओं आदि विषयों पर अपनी बात रखेंगे।

फेस्टिवल के दौरान एनआरसी, सीएए और दिल्ली के जेएनयू जैसे मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। हालांकि आयोजकों ने फिलहाल इन मुद्दों को फेस्टिवल में सूचीबद्ध नहीं किया है, लेकिन हर बार किसी ना किसी चर्चित विषयों को लेकर विवाद होता है तो इस बार इन तीनों मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। इस बार जेएलएफ का आयोजन स्थल राजस्थानी रंगों से सजाया गया है, जिसमें प्रदेश की ऐतिहासिक परंपरा, विरासत से लेकर ग्लोबलिज्म का मिश्रण देखने को मिलेगा।

राजनेता और साहित्यकार होंगे शामिल

फेस्टिवल के दौरान पूर्व मंत्री केजे अल्फॉंस साहित्य से जुड़े एक सत्र में वक्ता होंगे। वहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता जयराम रमेश पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन से जुड़े सत्र में लेखक विजू बी एवं कृपा गे के साथ चर्चा करेंगे। पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर का एक सत्र शशि ऑन शशि होगा। फिल्म अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे और नंदिता दास दो अलग-अलग सत्रों में अपनी बात रखेंगी। गीताकार जावेद अख्तर लेखक और फेस्टिवल डायरेक्टर के दोहरे चरित्र विषय पर अपना पक्ष रखेंगे। इसी तरह पीएम के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन एशिया राइजिंग सत्र में पुर्तगाल सरकार के पूर्व मंत्री ब्रूनो मार्केस के साथ चर्चा करेंगे। इस सत्र में जेएनयू दिल्ली के प्रोफेसर दीपक नय्यर भी शामिल होंगे।
नोबल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी पुअर इकोनॉमिक्स फाइटिंग ग्लोबल पॉवर्टी सत्र में अपनी बात रखेंगे। राजनीतिक दार्शनिक गिरधर दास दुनिया बदलने में विषय पर निवेशक मोहित सत्यानंद के साथ संवाद करेंगे। चीन के लेखक ब्रूनो मार्केस नई व्यापार नीति के तौर पर भारत और दक्षिण एशिया की महत्वांकाक्षा विषय पर मनोज जोशी एवं सुजीव शाक्य के साथ संवाद करेंगे। फेस्टिवल के दौरान होने वाले सत्र द डूडलस ऑन लीडरशिप में टाटा संस के निदेशक आ.गोपालकृष्णन के साथ निवेशक मोहित सत्यानंद बात करेंगे।

जेनेरिक दवाओं को लेकर भी एक सत्र होगा। ब्रिटिश की पत्रकार क्रिस्टीना लैम्ब जानी-मानी पत्रकार सुहासिनी हैदर के साथ संवाद करेंगे। लेखिका चित्रा मुद्गल और रोहिणी चौधरी “एक जमीन अपनी: राइटिंग द फिमिनिन” सत्र में चर्चा करेंगी। एक सत्र में प्रसिद्ध अदाकारा मधुर जाफरी से उपन्यासकार चंद्रहास चौधरी चर्चा करेंगे। राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट एवं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी फेस्टिवल के दौरान अपनी बात रखेंगी।

ये साहित्यकार और लेखक भी शामिल होंगे

फेस्टिवल के दौरान फिक्शन पर आधारित एक सत्र में दुनिया के पांच मशहूर लेखक एलिजाबेथ गिल्बर्ट, लीला स्लिमानी, अवनी दोषी, जॉन लंकास्टर व होवार्ड जैकबसन संवाद करेंगे। इस दौरान पुलित्जर पुरस्कार विजेता स्टीफन ग्रीनब्लास्ट, डेक्सटर फिल्किंस, आनंद गोपाल, बुकर पुरस्कार विजेता होवार्ड जैकबसन, जॉल लंचेस्टर के साथ ही लैम सिस्से, साइमन आर्मिटेज, फोरेस्ट गंडर, पॉल मुल्ड्रन, डेविड वाल्लास, सामाजिक कार्यकर्ता अरूणा रॉय, इजिप्ट के सांस्कृति कमेंटेटर अहदाफ सोइफ, मेघना गुलजार, अमिताभ बागची, अनीता नायर, अशोक चक्रधर, अश्विनी सांघी, संदीप उन्नीथन, शोभा डे, राणा दास गुप्ता, रूबी लाल, नीलेश मिश्रा, रॉय स्ट्रांग, सुबोध गुप्ता, मकरंद पराजपे, जेम्स मैलिन्सन, शुभांगी स्वरूप, स्टीव कॉल, एवनी सायर्सटैड एवं देवदत्त पटनायक सहित कई साहित्यकार एवं लेखक विभिन्न सत्रों में चर्चा करने के साथ ही श्रोताओं के सवालों के जवाब भी देंगे। जेएलएफ आयोजकों के अनुसार पांच दिवसीय साहित्य के इस महाकुंभ में दुनियाभर के लोग शामिल होंगे।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *