Jharkhand चुनाव 30 नवंबर से 5 चरणों में, नतीजे 23 दिसंबर को

नई दिल्‍ली। Jharkhand में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। 81 सीटों वाली विधानसभा के लिए 30 नवंबर से 5 चरणों में चुनाव होंगे। नतीजे 23 दिसंबर को घोषित होंगे। पहले चरण में 30 नवंबर, दूसरे चरण में 7 दिसंबर, तीसरे चरण में 12 दिसंबर, चौथे चरण में 16 दिसंबर और पांचवें व आखिरी चरण में 20 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। Jharkhand की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 5 जनवरी 2020 को खत्म हो रहा है।
पहले चरण में 30 नवंबर को 13 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 20 सीटों पर 7 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। तीसरे चरण में 12 दिसंबर को 17 सीटों पर वोटिंग होगी। चौथे चरण में 16 दिसंबर को 15 सीटों और पांचवें व आखिरी चरण में 20 दिसंबर को 16 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। 23 दिसंबर को नतीजे घोषित होंगे। पहली बार दिव्यांग और सीनियर सिटीजन को पोस्टल बैलट की सुविधा
पहली बार शारीरिक दिव्यांग और सीनियर सिटीजन घर बैठे पोस्टल बैलट के जरिए अपना वोट डाल सकेंगे। उनके पास पोलिंग स्टेशन पर जाकर ईवीएम से वोट डालने के अलावा घर बैठे पोस्टल बैलट के जरिए अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने का विकल्प होगा।
बहुमत के लिए किसी पार्टी या गठबंधन को 41 सीटों की होगी जरूरत
81 सदस्यीय Jharkhand विधानसभा में सरकार बनाने के लिए किसी पार्टी या गठबंधन को कम से कम 41 सीटों पर जीत हासिल करनी होगी। सत्ताधारी बीजेपी और ऑल Jharkhand स्टूडेंट्स यूनियन (AJSU) गठबंधन के सामने सरकार बचाने की चुनौती होगी। पिछले चुनाव में बीजेपी ने 37 और उसकी सहयोगी AJSU ने 5 सीटों पर जीत हासिल की थी। दोनों दलों ने बीजेपी के रघुबर दास के नेतृत्व में सरकार का गठन किया, जिसने अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा किया। बीजेपी-आजसू के अलावा कांग्रेस, Jharkhand मुक्ति मोर्चा, Jharkhand विकास पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल भी चुनाव मैदान में होंगे।
Election खर्चों पर नजर रखने के लिए हर जिले में इनकम टैक्स के अफसर तैनात हैं।
– शारीरिक दिव्यांग, सीनियर सिटिजन को पोस्टल बैलट से वोट देने की सुविधा।
-पोलिंग स्टेशनों की संख्या में 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।
– झारखंड में अपडेटेड वोटर लिस्ट में कुल 2.265 करोड़ वोटर हैं। 12 अक्टूबर 2019 को फाइनल वोटर लिस्ट प्रकाशित की गई।
– वामपंथी चरमपंथ से प्रभावित इलाकों में सुरक्षा की समुचित व्यवस्था की गई है। राज्य के 19 जिलों की कुल 67 सीटें नक्सल प्रभावित हैं।
– 19 जिले संवेदनशील, इनमें से 13 अति संवेदनशील।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *