पुण्‍यतिथि विशेष: प्रसिद्ध कथाकार तथा नाटककार शंकर शेष

हिन्दी के प्रसिद्ध नाटककार तथा कथा लेखक शंकर शेष की आज पुण्‍यतिथि है। 2 अक्टूबर 1933 को बिलासपुर छत्तीसगढ़ में जन्‍मे शंकर शेष की मृत्‍यु 28 नवंबर 1981 के दिन हुई।
वे नाटक साहित्य के महत्वपूर्ण नाटककारों में से एक थे। समकालीन परिवेश और युगीन परिस्थितियों से उनके व्यक्तित्त्व की संवेदनशीलता का निर्माण हुआ था।
शंकर शेष बहुआयामी प्रतिभाशाली लेखक के रूप में पहचाने जाते थे। वे मुम्बई में एक बैंक अधिकारी थे। उनके ‘फन्दी’, ‘एक था द्रोणाचार्य’, ‘रक्तबीज’ आदि नाटकों से उनकी ख्याति बढ़ी थी। उनका शोध-प्रबंध ‘हिन्दी मराठी’ कहानीकारों के तुलनात्मक अध्ययन पर आधारित था। शंकर शेष अत्यन्त सुहृदय और गुट-निरपेक्ष लेखक थे। उनके द्वारा रचित ‘घरोंदा’ कथा पर हिन्दी में एक प्रसिद्ध फ़िल्म भी बनी थी।
शंकर का काव्य आकाशवाणी तथा समाचार पत्रों के लिए कहानियों का लेखन करने से प्रारंभ हुआ।
नाट्य विषय
डॉ. शंकर शेष के नाटकों में जाति व्यवस्था के नाम पर होने वाले अत्याचारों का यथार्थ चित्रण हुआ है। भारतीय समाज की छुआछूत जैसी कुप्रथा से संबंधित कई प्रश्न उन्होंने उठाए हैं।
‘फंदी’ नाटक के माध्यम से नाटककार डॉ. शंकर शेष न्याय व्यवस्था पर व्यंग्य करते नज़र आते हैं। फन्दी नाटक का नायक है और अंत तक संघर्षशील और जूझता नज़र आता है। लेकिन उसकी नियति अनिर्णयात्मक संशय में स्थगित हो जाती है। अपने कैंसर पीडित बाप के दर्द के मारे माँगने पर वह उनका गला घोंट देता है।
शंकर शेष ने ‘एक और द्रोणाचार्य’ नामक नाटक में शिक्षा जगत में बढ़ते राजनैतिक दबाव का वर्णन किया है, जिसके चलते नौजवान पीढ़ी का भविष्य अधंकारमय हो गया। नाटककार ने शिक्षकों की उदासीनता पर तीखा कटाक्ष किया है। वह शिक्षक आर्थिक राजनैतिक दबावों के चलते हार मान लेते हैं।
युग चेतना के कलाकार
शंकर शेष युग चेतना के कलाकार हैं इसलिए उनकी रचनाओं में सामाजिक असंगतियों का खुला चित्रण हुआ है। ‘रत्नगर्भ’, ‘रक्तबीज’, ‘बाढ़ का पानी’, ‘पोस्टर’, ‘चेहरे’, ‘राक्षस’, ‘मूर्तिकार’, ‘घरौंदा’ जैसे नाटक सामाजिक यथार्थ को यथाकथित अनावृत्त करने वाली रचनाएँ हैं। इन नाटकों में नाटककार ने जहाँ एक ओर समकालीन मानव की त्रासदी, निराशा और घुटन का यथार्थ वर्णन किया है, वहीं दूसरी ओर सामाजिक दायित्व का निर्वाह करते हुए मानवता को नए मूल्य और प्रतिमान देने का प्रयास भी किया है। नाटक की सफलता और सार्थकता उसके मंचन में देखी जा सकती है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *