जनता कर्फ्यू: 3,700 ट्रेनों का परिचालन रद्द, 1 हजार उड़ानें कैंसिल

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर 14 घंटे के जनता कर्फ्यू का काउंटडाउन नजदीक आ गया है। इसे सफल बनाने के लिए चौतरफा समर्थन के ऐलान होने लगे हैं।
एक तरफ रेलवे ने रविवार को देशभर में 3,700 ट्रेनों का परिचालन रद्द करने की घोषणा की तो दूसरी तरफ देश की दो विमानन कंपनियों, इंडिगो और गोएयर ने करीब 1 हजार उड़ानें कैंसिल करने का फैसला किया।
कम-से-कम ट्रेनें चलाने पर जोर
रेलवे की घोषणा के मुताबिक रविवार को रद्द होने वाली ट्रोनों में पैसेंजर के साथ-साथ लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी शामिल होंगी।
रेलवे के मुताबिक ‘शनिवार और रविवार की दरम्यानी रात 10 बजे से देश के किसी भी स्टेशन से कोई पैसेंजर या एक्सप्रेस ट्रेन नहीं खुलेगी।’
रेलवे बोर्ड ने शुक्रवार को जारी एक आदेश में कहा कि मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नै और सिकंदराबाद में उपनगरीय रेल सेवाओं में भी बड़ी कटौती होगी और उतनी ही ट्रेनें चलाई जाएंगी जितने से जरूरी यात्राएं संभव हो सकें।
रेलवे बोर्ड ने हरएक रेलवे जोन को यह फैसला करने का अधिकार दिया कि वह रविवार को कम-से-कम कितनी ट्रेनें चलाना चाहता है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में रविवार 22 मार्च के दिन जनता कर्फ्यू का आह्वान किया है।
उन्होंने लोगों से रविवार सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक घरों में ही रहने का आग्रह किया है। कहा जा रहा है कि जनता कर्फ्यू के जरिए सरकार यह देखना चाहती है कि कोरोना का असर बढ़ने पर लॉकडाउन की स्थिति के लिए देश कितना तैयार है।
कुल 3,700 ट्रेनें होंगी रद्द
रेलवे बोर्ड की ओर से जारी आदेश के मुताबिक रविवार को 2,400 ट्रेनें रद्द हो जाएंगी। हालांकि रविवार को जो पैसेंजर ट्रेनें 7 बजे सुबह परिचालन में रहेंगी, उन्हें गंतव्य तक पहुंचने दिया जाएगा। जिन ट्रेनों में यात्रियों की संख्या बेहद कम होगी, उन्हें बीच में ही रोक दिया जाएगा।
आदेश के अनुसार लंबी दूरी की मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों का रविवार सुबह 4 बजे से रात 10 बजे के बीच परिचालन बंद रहेगा। अनुमान है कि रविवार को 1,300 मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें रद्द होंगी।
करीब 1,000 उड़ानें भी कैंसिल
उधर दो देसी विमानन कंपनियां, इंडिगो और गोएयर भी जनता कर्फ्यू के समर्थन में उतर गई हैं। एक ओर गोएयर ने रविवार को अपनी सारी घरेलू उड़ानें कैंसिल करने का फैसला किया है तो दूसरी ओर इडिगो ने महज 40% उड़ानें संचालित करने की ही बात कही है।
अनुमान के मुताबिक दोनों कंपनियों के फैसले से रविवार को करीब 1 हजार उड़ानें कैंसिल हो जाएंगी। दोनों में से किसी भी कंपनी ने रद्द उड़ानों के टिकट के पैसे वापस करने को लेकर कोई ठोस आश्वासन अभी तक नहीं दिया है।
गोएयर ने कहा कि वह रविवार को सभी घरेलू उड़ानें कैंसिल कर देगी।
कंपनी के मुताबिक रविवार को अक्सर उसकी 330 उड़ानें हुआ करती हैं। देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनी इंडिगो का कहना है कि वह रविवार को 60% घरेलू उड़ानों को ही संचालित करेगी। कंपनी ने कहा कि रविवार को उसकी प्रायः 1,400 उड़ानें होती हैं।
यात्रियों की सुविधा का ध्यान
बहरहाल, बोर्ड ने सभी रेलवे जोनों को निर्देश दिया है कि जो यात्री ट्रेनों में हों या जो बंदी के दौरान स्टेशन आ रहे हों, उन्हें यात्रा में कोई परेशानी नहीं उठानी पड़े।
आदेश में कहा गया है कि जो यात्री स्टेशनों पर रुकना चाहते हैं, उन्हें वेटिंग हॉल, वेटिंग रूम आदि में बिना जत्था बनाए रहने दिया जाए। इसमें कहा गया है कि ट्रेनों के कैंसिलेशन पर बिना किसी बाधा के यात्रियों को टिकट के पैसे वापस करने का समुचित प्रबंध किया जाए। अगर डिवीजनल मैनेजर को लगे कि स्टेशनों पर लोग जमा हो रहे हैं और उनके लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की जरूरत है तो वह इसका आदेश दे सकता है।
स्टेशन से ट्रेन तक, कहीं नहीं मिलेगा खाना
आईआरसीटीसी ने जारी आदेश में अपने पांच ग्रुप जनरल मैनेजरों को फूड प्लाजा, रिफ्रेशमेंट रूम, जन आहार और सेल किचनों को रविवार से अगले आदेश तक बंद रखने को कहा। रेलवे की टिकटिंग और कैटरिंग इकाई ने मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों के अंदर कैटरिंग सर्विस को भी बंद रखने का आदेश दिया। इसने अपने वेंडर्स से उनके कैटरिंग स्टाफ की मानवीय आधार पर ध्यान रखने की अपील की।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *