अमेरिका में बॉलीवुड इवेंट करा रहा है ISI एजेंट, सुरक्षा एजेंसियां सतर्क

नई दिल्‍ली। कश्मीर पर पूरी दुनिया में मुंह की खा चुका पाकिस्तान अब छद्म युद्ध कर रहा है। ऐसे में भारत भी पड़ोसी देश की हर गतिविधियों पर नजर रख रहा है।
दरअसल, अमेरिका के ह्यूस्टन में बॉलीवुड इवेंट आयोजित करने वाले एक पाकिस्तानी मूल के शख्स रेहान सिद्दीकी पर सुरक्षा एजेंसियों की नजरें हैं।
इवेंट मैनेजर और एक रेडियो स्टेशन के मालिक रेहान पर आरोप है कि वह आयोजनों से मिलने वाले फंड का इस्तेमाल अमेरिका में भारत विरोधी गतिविधियों के लिए करता है।
बड़ा बॉलीवुड इवेंट कराने वाला है रेहान
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बताया जा रहा है कि रेहान इस साल भी शहर में एक बड़ा बॉलीवुड इवेंट आयोजित करने वाला है।
सूत्रों ने बताया कि रेहान इन इवेंट से मिले पैसों का इस्तेमाल कश्मीर से संबंधित भारत विरोधी गतिविधियों के लिए करता है।
कुछ बॉलीवुड स्टार हो सकते हैं इस इवेंट में शामिल
कुछ बॉलीवुड स्टार ने रेहान की मदद से आयोजित होने वाले इस इवेंट में जाने को लेकर रुचि दिखाई है। भारतीय एजेंसियों के लिए सबसे बड़ी चिंता का कारण यही है। ह्यूस्टन में रहने वाले भारतीय समुदाय के लोग लगातार विदेश मंत्रालय और गृह मंत्रालय के सामने यह मुद्दा उठाते रहे हैं।
इस साल भी रेहान द्वारा प्रस्तावित इस बॉलीवुड इवेंट ने भारतीय लोगों में चिंता पैदा की है। आयोजकों का दावा है कि बॉलीवुड के बड़े स्टार इस आयोजन में शामिल होने के लिए हामी भर चुके हैं।
भारतीय समुदाय ने विदेश मंत्रालय को लिखा पत्र
पिछले साल भारतीय समुदाय और फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एंप्लाई (FWICE) द्वारा विदेश मंत्रालय और भारतीय अधिकारियों को ‘ISI एजेंट’ रेहान के बारे में लिखे गए पत्र के बाद एक्टर और पंजाबी सिंगर दलजीत दोसांझ ने ह्यूस्टन में अपना शो रद्द कर दिया था।
ह्यूस्टन में रहने वाले प्रवासी भारतीयों ने सरकार से आग्रह किया है कि वह रेहान द्वारा आयोजित किए जाने वाले इस समारोह में बॉलीवुड अभिनेताओं को शामिल नहीं होने को कहे। प्रवासी भारतीयों ने आरोप लगाया है कि रेहान और अन्य पाकिस्तानी ह्यूस्टन में CAA के विरोध में प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि वे खालिस्तान के समर्थन में भी एक प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं। प्रवासी भारतीय समुदाय के एक मशहूर सदस्य ने कहा, ‘रेहान को भारतीय कलाकारों को बुलाने से रोकना चाहिए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *