IPL-2022: 64 मैचों के बाद भी एक ही टीम को मिला प्लेऑफ का टिकट

इंडियन प्रीमियर लीग-2022 (IPL) में 64 मैच हो चुके हैं, लेकिन अभी तक एक ही टीम को प्लेऑफ का टिकट मिला है। वह टीम है गुजरात टाइटंस (GT)। राजस्थान रॉयल्स (RR) और लखनऊ सुपर जायंट्स (LSG) के 16-16 अंक हैं और उनका प्लेऑफ में पहुंचना पक्का माना जा रहा है। इसके बावजूद उनका टिकट पक्का नहीं है। इसकी सबसे बड़ी वजह हैं दिल्ली कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर। इन दोनों के पास भी 16 अंक तक पहुंचने का मौका है।
एक लाइन में कहा जाए तो बचे हुए 6 मैच बड़े ही रोचक होने वाले हैं। अभी भी 7 टीमों के पास प्लेऑफ का टिकट पाने का मौका है, हालांकि जगह 3 ही शेष हैं।
बैंगलोर कैसे कर सकता है प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ?
फाफ डु प्लेसिस की कप्तानी वाली RCB को प्लेऑफ का टिकट चाहिए तो गुजरात पर बड़ी जीत दर्ज करनी होगी। उसका NRR माइनस में है। लखनऊ और राजस्थान के पहले से 16-16 अंक हैं, जबकि दिल्ली के पास भी 16 अंक तक पहुंचने का मौका है। इन तीनों का NRR बैंगलोर से बेहतर है। हां अगर दिल्ली हार जाए तो बात अलग है।
राजस्थान कैसे कर सकता है प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ?
राजस्थान रॉयल्स को चेन्नई सुपर किंग्स से भारी हार से बचना होगा। अगर वह अपना आखिरी मैच जीत जाते हैं तो उन्हें प्लेऑफ का टिकट मिल जाएगा। यदि वे सीएसके से बड़े अंतर से हार जाते हैं और लखनऊ सुपर जायंट्स, डीसी और आरसीबी सभी अपने आखिरी मैच जीत जाते हैं और उनका नेट रन रेट राजस्थान से बेहतर होता है तो संजू सैमसन की टीम बाहर हो जाएगी।
लखनऊ कैसे कर सकता है प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ?
लखनऊ सुपर जायंट्स अगर अपने अंतिम मैच में केकेआर को हराती है तो प्लेऑफ में जगह पक्की है। हालांकि, अगर वे इसे बड़े अंतर से हारते हैं और डीसी और आरसीबी अपने शेष मैच बड़े अंतर से जीतते हैं तो वे नॉकआउट चरण में पहुंचने से चूक जाएंगे।
दिल्ली कैसे कर सकता है प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ?
अपने अच्छे NRR की बदौलत DC के पास अपना आगामी मैच जीतने पर क्वॉलिफाइ करने का एक शानदार मौका है। अगर वे हार जाते हैं तो उनके पास क्वॉलिफाइ करने का मौका तभी होगा जब आरसीबी अपना आखिरी मैच हार जाए। यदि डीसी हार जाता है तो उन्हें उम्मीद करनी होगी कि आरसीबी हार जाए और एसआरएच, केकेआर और पीबीकेएस 14 अंकों तक नहीं पहुंचे।
कोलकाता कैसे क्वॉलिफाइ कर सकता है?
केकेआर को अपने प्लेऑफ की उम्मीदों को जिंदा रखने के लिए अपने अंतिम मैच में जीत से कम कुछ नहीं चाहिए। अगर केकेआर हारती है तो वह सीधे रेस से बाहर हो जाएगी। जीत के साथ भी उसे किस्मत का साथ चाहिए होगा। केकेआर को क्वॉलिफाइ करने के लिए डीसी और आरसीबी को अपने अंतिम गेम हारने होंगे और पीबीकेएस और एसआरएच को 14 अंक तक पहुंचने से चूकना होगा। यहां भी काफी कुछ नेट रन रेट पर निर्भर करेगा। 14 मई को सनराइजर्स पर केकेआर की 54 रन की जीत ने उनके नेट रन रेट में मदद की।
पंजाब किंग्स कैसे क्वॉलिफाइ कर सकता है?
17 मई को दिल्ली से पीबीकेएस की बड़ी हार ने प्लेऑफ में पहुंचने की उनकी संभावनाओं को बड़ा झटका दिया है। मयंक अग्रवाल की टीम को क्वॉलिफाइ करने का मौका पाने के लिए सनराइजर्स को अपने अंतिम गेम में हराने की जरूरत है। यानी PBKS क्वॉलिफाइ तभी कर सकता है जब वह SRH को बड़े अंतर से हराए और DC, RCB और KKR अपने अंतिम मैच हार जाएं। अगर केकेआर जीत जाता है और आरसीबी और डीसी हार जाते हैं तो पीबीकेएस को अपने अंतिम गेम में बड़े अंतर की जीत जरूरी होगी। कुल मिलाकर किस्मत का खेल बचा हुआ है।
हैदराबाद कैसे कर सकता है प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ?
सनराइजर्स अपने 7वें गेम में 10 अंक तक पहुंचने के बाद लगातार 5 मैच गंवाए। अब उसे को MI और PBKS दोनों को भारी अंतर से हराने की जरूरत है और उम्मीद करनी होगी कि DC और RCB अपना अंतिम मैच नहीं जीतें। इसके बावजूद उसे KKR और LSG के अलावा NRR पर निर्भर रहना होगा। यह सेनेरियो थोड़ा सा नामुमकिन सा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *