INX मीडिया केस: ED की याचिका पर आज पूरी नहीं हुई सुनवाई

नई दिल्‍ली। INX मीडिया केस में फंसे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को कल तक के लिए राहत मिल गई है। चिदंबरम को हिरासत में लेने वाली ED की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई पूरी नहीं हो पाई। अब बुधवार को इस मामले पर आगे की सुनवाई होगी। ED की अर्जी पर सुनवाई के दौरान चिदंबरम के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने शीर्ष अदालत में कहा कि चिदंबरम के खिलाफ जिस पीएमएलए कानून के उल्लंघन का आरोप है, वह कानून 2009 में आया था और इस आधार पर उनके मुवक्किल पर केस दर्ज नहीं हो सकता है। इस बीच खबर यह है कि सीबीआई INX केस में चिदंबरम को आरोपी नंबर वन बना सकती है। साथ ही, विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) से जुड़े पांच अधिकारियों से भी पूछताछ हो सकती है।
चिदंबरम के वकील सिंघवी ने दी दलीलें
सिंघवी ने अपने मुवक्किल की तरफ से तर्क देते हुए कहा कि चिदंबरम के खिलाफ अपराध का आरोप 2007 का है। ऐसे में जब कानून 2009 में आया तो उस कानून को यहां कैसे शामिल किया जा सकता है। सिंघवी ने कहा कि आरोपी की हिरासत के लिए ईडी बेतरतीब तरीके से ‘पीछे से’ अदालत में दस्तावेज पेश नहीं कर सकता है।
ईडी से मांगा पूछताछ का लिखित ब्योरा
जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस ए एस बोपन्ना की पीठ के समक्ष चिदंबरम की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में एक आवेदन दायर किया है जिसमे पिछले साल 19 दिसंबर, एक जनवरी और 21 जनवरी, 2019 को उनके मुवक्किल से की गई पूछताछ का लिखित ब्यौरा पेश करने का प्रवर्तन निदेशालय को निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। सिब्बल ने कहा कि इस लिखित ब्यौरे से पता चल जायेगा कि क्या चिदंबरम पूछताछ के दौरान जवाब देने से बच रहे थे जैसा कि प्रवर्तन निदेशालय का आरोप है। उन्होंने पीठ से कहा कि चिदंबरम को हिरासत में लेने के लिये प्रवर्तन निदेशालय अपनी मर्जी से और पीठ पीछे कोई दस्तावेज दाखिल नहीं कर सकता है।
सिब्बल ने कहा, ‘वे अचानक ही दस्तावेज पेश कर रहे हैं और कहते हैं कि यह केस डायरी का हिस्सा है।’
उधर मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ED के हलफनामे पर चिदंबरम ने अपने जवाब में कहा कि ED जिन संपत्तियों और बैंक खातों का हवाला दे रही है वह सभी वैध हैं।
सीबीआई बनाएगी आरोपी नंबर वन?
इधर, ऐसी खबरें हैं कि सीबीआई INX मीडिया केस में चिदंबरम को आरोपी नंबर बन बना सकती है। ऐसी भी खबरें हैं कि शीर्ष जांच एजेंसी अदालत से चिदंबरम के लाइ डिटेक्टर टेस्ट का भी आग्रह कर सकती है। सूत्रों ने बताया कि पूछताछ में चिदंबरम सीबीआई के सवालों का गोलमोल जवाब दे रहे हैं।
सीबीआई की हिरासत में हैं चिदंबरम
बता दें कि चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया करप्शन और मनी लॉन्ड्रिंग केस में अभी सीबीआई की हिरासत में हैं। दिल्ली की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने सोमवार को उनकी हिरासत अवधि 30 अगस्त बढ़ा दी। वहीं, प्रवर्तन निदेशालय (ED) भी चिदंबरम की गिरफ्तारी की जुगत में लगा है।
गौरतलब है कि कि शीर्ष अदालत की यह पीठ INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में चिदंबरम की अग्रिम जमानत रद्द करने के दिल्ली हाई कोर्ट के 20 अगस्त के फैसले के खिलाफ दायर अपील पर सुनवाई कर रही है।
सीबीआई ने 15 मई, 2017 को एक प्राथमिकी दर्ज की जिसमें आरोप लगाया गया था कि INX मीडिया समूह को विदेश से 305 करोड़ का निवेश प्राप्त करने के लिये विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (FIPB) की मंजूरी देने में अनियमितताएं की गईं। यह मंजूरी उस वक्त दी गई थी जब चिदंबरम वित्त मंत्री थे। इसके बाद, 2017 में ही ईडी ने चिदंबरम के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *