UPTET पेपर लीक मामले की जांच STF को सौंपी, एक महीने बाद होगी परीक्षा

उत्तर प्रदेश में शिक्षक पात्रता परीक्षा UPTET स्थगित कर दी गई है। परीक्षा से कुछ देर पहले गाजियाबाद, मथुरा और बुलंदशहर में पेपर लीक हो गया जिसके बाद पेपर निरस्त कर दिया गया। लीक मामले की जांच STF को सौंपी गई है। वहीं अब इस परीक्षा को एक महीने बाद कराया जाएगा। इस मामले में यूपी सरकार ने यूपी रोडवेज को भी निर्देश जारी किए हैं कि परीक्षार्थियों से किराया न लिया जाए।
यूपी लॉ एंड ऑर्डर एडीजी प्रशांत कुमार और प्रमुख सचिव दीपक कुमार ने इस संबंध में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि अभी तक 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। लखनऊ से चार लोग गिरफ्तार किए गए हैं। मेरठ से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ वाराणसी और गोरखपुर ने भी दो गिरफ्तारियां की हैं। कौशांबी से एक और प्रयागराज से 13 लोगों को गिरफ्तारी हुई है।
मोबाइल और फोटो कॉपियां हुईं जब्त
लोगों के पास से फोटोकॉपी मिली थीं। शासन के साथ वह मैच किए गए तो पता चला कि परीक्षाओं में आने वाले ही यह प्रश्नपत्र थे। शासन को सूचना दी गई और तत्काल परीक्षा स्थगित की गई। निर्णय हुआ है कि एक महीने में फिर से परीक्षा होगी।
नहीं करना होगा फिर से आवेदन
एडीजी ने कहा कि परीक्षार्थियों को न तो फिर फॉर्म भरना होगा न हो कोई खर्चा देना होगा। जो वापस हो रहे हैं उन्हें बसों में कोई टिकट लेने की जरूरत नहीं है। वह फ्री में सफर कर सकेंगे।
बिहार से हुई हैं गिरफ्तारियां
यूपी एसटीएप जांच कर रही है। जो भी शख्स या संस्था इसमें शामिल है उनके खिलाफ जांच के बाद सख्त कार्रवाई होगी। मोबाइल फोन्स, पेपर की फोटो कॉपी जब्त की गई हैं। बिहार के कुछ लोगों को भी गिरफ्तार किया है।
पेपर करा रही संस्था भी रडार पर
सॉल्वर गैंग से पेपर लीक कराया गया है। इसमें जिस संस्था को पेपर कराने की जिम्मेदारी दी गई थी उसके खिलाफ भी जांच चल रही है। उससे जुड़े लोगों से पूछताछ शुरू कर दी गई है। अगर उनका इन्वॉल्वमेंट मिला तो उनके खिलाफ भी ऐक्शन होगा।
-एजेंसियां

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *