इंस्पेक्टर लक्ष्मी चौहान ने एंटी करप्शन कोर्ट में किया सरेंडर

मेरठ। गाजियाबाद के लिंक रोड थाने में एसएचओ रहते हुए बरामदगी की रकम में से 70 लाख रुपये डकारने की आरोपी इंस्पेक्टर लक्ष्मी चौहान व एक सिपाही ने गुरुवार को मेरठ कोर्ट में सरेंडर कर दिया।
जानकारी के अनुसार लक्ष्मी सिंह ने यहां एंटी करप्शन कोर्ट में सरेंडर किया है। आरोपी इंस्पेक्टर लक्ष्मी सिंह को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लेकर जेल भेजा गया। इंस्पेक्टर लक्ष्मी सिंह पर एसएसपी नोएडा, वैभव कृष्ण द्वारा 25 हजार का इनाम रखा गया था।
लक्ष्मी सिंह के साथ सिपाही धीरज भारद्वाज ने मेरठ में एंटी करप्शन की कोर्ट में सरेंडर किया है। इससे पहले इंस्पेक्टर लक्ष्मी चौहान ने अग्रिम जमानत के लिए हाईकोर्ट में अर्जी लगाई है। मेरठ स्थित भ्रष्टाचार निवारण कोर्ट ने आरोपी इंस्पेक्टर की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।
गौरतलब है कि साहिबाबाद साइट-4 औद्योगिक क्षेत्र स्थित सीएमएस इंफो सिस्टम कंपनी ने 22 अप्रैल को लिंक रोड थाने में कंपनी के कैश कस्टोडियन एजेंट राजीव सचान पर करीब 72.50 लाख रुपये गबन का केस दर्ज कराया था। जांच में मामला साढ़े तीन करोड़ के गबन का निकला।
पुलिस ने 24 सितंबर की रात राजीव सचान को साथी आमिर के साथ गिरफ्तार कर उनसे 1.15 करोड़ रुपये बरामद किए थे, लेकिन पुलिस करीब 70 लाख रुपये डकार गई थी। एसएसपी ने लिंक रोड की तत्कालीन एसएचओ लक्ष्मी सिंह चौहान सहित सात पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था। साथ ही सभी के खिलाफ लिंक रोड थाने में मुकदमा दर्ज किया था। तभी से सभी पुलिसकर्मी फरार चल रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *