ईरान से लौटे भारतीयों को सेना के विशेष आइसोलेशन वॉर्ड्स में रखा, खास इंतजाम

नई दिल्‍ली। ईरान से 236 भारतीयों को वापस भारत लाया जा चुका है। अब उन्हें भारतीय सेना के खास आइसोलेशन वॉर्ड्स में रखा गया है। इन वॉर्ड्स में मरीजों की विभिन्न आवश्यकताओं का ख्याल रखते हुए खास इंतजाम भी किए गए हैं।
कोरोना वायरस से संक्रमण के खतरे को ध्यान में रखते हुए देश-दुनिया इससे बचाव के लिए अलग-अलग तरीके अपना रही है। भारत के विभिन्न हिस्सों में आइसोलेशन वॉर्ड बनाए गए हैं, जहां संदिग्ध लोगों को रखा गया है। हर संभव कोशिश की जा रही है कोरोना वायरस होने की स्थिति में यह संक्रमण और किसी को न फैले। साथ ही संक्रमण ग्रस्त मरीज को भी जल्द से जल्द राहत दिलाई जा सके।
आइसोलेशन वॉर्ड्स में भेजे गए ईरान से आए भारतीय
ईरान से सुरक्षित निकाले जाने के बाद 236 भारतीय नागरिकों (100 पुरुष, 136 महिलाएं) को इंडियन आर्मी की ओर से जैसलमेर में स्थापित आइसोलेशन वॉर्ड्स में भेज दिया गया है। सेना का स्वास्थ्य केंद्र नागरिक प्रशासन, एयरपोर्ट अधिकारियों और वायुसेना के साथ मिलकर काम कर रहा है ताकि ईरान से निकाले गए नागरिकों की उचित देखभाल की जाए। ईरान से निकाले गए भारतीयों का यह तीसरा जत्था है। 44 भारतीय श्रद्धालुओं का दूसरा जत्था शुक्रवार को ईरान से यहां पहुंचा था। ईरान से 58 भारतीय श्रद्धालुओं का पहला जत्था मंगलवार को लौटा था।
…खास हैं आइसोलेशन वॉर्ड्स
इन सभी भारतीय नागरिकों की आवश्यकता के मुताबिक इंडियन आर्मी के आइसोलेशन वॉर्ड्स में जरूरी इंतजाम भी किए गए हैं। इन सबके इतर यह गौर करना जरूरी है कि ईरान कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देशों में शामिल है और भारत सरकार वहां फंसे भारतीयों को वापस लाने की योजनाओं पर काम कर रही है।
डॉक्टरों की निगरानी में ईरान से लौटे भारतीय
ईरान से सुरक्षित निकाले जाने के बाद ये सभी 236 भारतीय वापस वतन (भारत) पहुंचे। इसके बाद इन्हें 14 दिनों के लिए आइसोलेशन वॉर्ड्स में भेज दिया गया। इन सभी पर डॉक्टर खास नजर रख रहे हैं।
कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 100 पार
देश में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 101 पहुंच गई है। हालांकि, सरकार ने संक्रमित लोगों की संख्या 93 बताई है। इनमें से दो की मौत हो चुकी है और 10 मरीज ठीक हो चुके हैं।
बॉर्डर सील करने का निर्देश
कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए साफ-सफाई के इंतजामों पर खास ध्यान दिया जा रहा है। इसके साथ ही सरकार ने बढ़ती संख्या को देखते हुए अपने बॉर्डर को सील करने का फैसला किया है। आज से पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान और म्यांमार बॉर्डर से आवागमन पर रोक लगा दी गई है।
विदेश मंत्री जयशंकर ने बताया कि इस जत्थे में 131 स्टूडेंट और 103 तीर्थ यात्री शामिल हैं। जयशंकर ने इसके लिए ईरान सरकार और भारतीय दूतावास को धन्यवाद कहा है।
ईरान में शनिवार को इस खतरनाक वायरस से लगभग 100 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही वहां का आंकड़ा 700 के करीब पहुंच गया है। देश में लगभग 13 हजार लोग कोरोना से संक्रमित हैं। पश्चिम एशिया में ईरान कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है।
ईरान के कई वरिष्ठ अधिकारी भी इसकी चपेट में आ चुके हैं। ईरान के शीर्ष नेता खोमैनी के सलाहकार भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इससे पहले सऊदी अरब ने कोरोना वायरस के चलते अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर दो सप्ताह के लिए पाबंदी लगा दी है। खाड़ी देश भी दुनिया भर में फैले कोरोना वायरस की चपेट में हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *