भारतीय कं. के संतूर साबुन ने ब्रिटिश कं. के लक्‍स को पछाड़ा

मुंबई। संतूर किसी भी भारतीय एफएमसीजी (फास्ट मूविंग कन्ज्यूमर गुड्स) कंपनी का ऐसा साबुन ब्रैंड बन गया जिसने 2 हजार करोड़ रुपये की सालाना सेल का स्तर छू लिया।
संतूर बनाने वाली विप्रो कन्ज्यूमर केयर ने इस आंकड़े की पुष्टी की। संतूर ने 2 हजार करोड़ रुपये के टर्नओवर के साथ हिंदुस्तीन यूनिलीवर लि. (एचयूएल) के लक्स को पछाड़ दिया और अब लाइफ बॉय के सामने चुनौती पेश कर रहा है।
एचयूएल की ताजा सालाना रिपोर्ट में लाइफबॉय और लक्स को क्रमशः 2 हजार करोड़ और 1 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के सेल्स ब्रैकेट में रखा गया था।
विप्रो कन्ज्यूमर केयर एंड लाइटिंग के सीईओ विनीत अग्रवाल ने कहा, ‘संतूर की मांग शहरी और ग्रामीण बाजारों में लगातार बढ़ रही है। अब यह 2 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कन्ज्यूमर ब्रैंड्स में शामिल हो गया है। यह पहला और अकेला भारतीय साबुन है जिसने यह उपलब्धि हासिल की है।’
हिंदुस्तीन यूनिलीवर कहां की कंपनी
गौरतलब है कि एचयूएल एक ब्रिटिश-डच कंपनी है जिसका मुख्यालय मुंबई में है। इसकी स्थापना 1933 में लीवर ब्रदर्स के नाम से हुई थी। 1956 में जब ग्रुप कंपनियों का विलय हुआ तो इसका नाम हिंदुस्तान लीवर लि. कर दिया गया। फिर जून 2007 में यह हिंदुस्तान यूनिलिवर लि. हो गया।
शहरों में ज्यादा प्रचलित है संतूर
बहरहाल, इंडस्ट्री के सूत्रों ने कंतार हाउसहोल्ड पैनल डेटा के हवाले से कहा कि इस वर्ष जनवरी से मार्च तक पूरे देश में सॉप मार्केट के 15.1% पर अकेले संतूर का कब्जा था। यानि, इसने 12.5% के मार्केट शेयर वाले लक्स को पछाड़ दिया। हालांकि 17.7% के मार्केट शेयर वाले लाइफबॉय से थोड़ा पीछे रह गया।
उधर सिर्फ शहरी बाजारों में संतूर ने 13.4% हिस्सेदारी हासिल की और यहां वह लक्स (12%) और लाइफबॉय (13%), दोनों से आगे निकल गया। कंतार ने इस आंकड़े पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।
इन हिस्सों में संतूर का दबदबा
इंडस्ट्री सोर्सेज ने नील्सन के आंकड़े का जिक्र करते हुए कहा कि संतूर (9.3%) जनवरी-मार्च 2019 में लाइफबॉय (13.7%) और लक्स (12%) के बाद तीसरा सबसे बड़ा साबुन ब्रैंड रहा था। एचयूएल के प्रवक्ता ने कहा, ‘भारत में लाइफबॉय के बाद लक्स दूसरा सबसे बड़ा सॉप ब्रैंड बना हुआ है। कंपनी पॉलिसी के तहत हम मार्केट शेयर पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते।’ कंतार के वर्ल्डपैनल डिविजन के आंकड़े बताते हैं कि संतूर देश के दक्षिणी और पश्चिमी इलाके में लक्स से ज्यादा प्रचलित है। हालांकि, राष्ट्रीय स्तर पर संतूर (34%) लक्स (60%) के आगे नहीं टिकता।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *