चीन को जवाब देने के लिए भारत ने LAC पर भेजी खास यूनिट, पूर्वी लद्दाख में किया तैनात

नई दिल्‍ली। चीन की ओर से खतरे को देखते हुए भारतीय सेना ने एक खास यूनिट को पूर्वी लद्दाख की ओर ट्रांसफर कर दिया है। पूर्वी लद्दाख में अपनी ताकत को बढ़ाए रखने के लिए भारत ने सेना के 1 स्ट्राइक कोर का ट्रांसफर पूर्वी लद्दाख में कर दिया है। इस यूनिट के जवान पीपुल्स लिबरेशन आर्मी PLA की ओर से उठाए गए किसी भी कदम का मुकाबला करने के लिए लेह स्थित मुख्यालय की सहायता करेंगे।
एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय सेना ने 1 स्ट्राइक कोर को पूर्वी लद्दाख में ट्रांसफर कर दिया है। पिछले साल मई से भारत और चीन की सेनाओं के बीच गतिरोध जारी है और पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर अप्रैल 2020 की स्थिति बहाल होने की तत्काल कोई संभावना नहीं है। 1 स्ट्राइक कोर के अलावा, दो अन्य स्ट्राइक कोर पाकिस्तान से मुकाबले के लिए है।
इसका मुख्यालय अंबाला और भोपाल में है। किसी भी प्रकार से संघर्ष की स्थिति में स्ट्राइक कोर को स्वाभाविक रूप से फर्स्ट मूवर्स के रूप में प्रशिक्षित किया जाता है। 1 स्ट्राइक कोर के पूर्वी लद्दाख में जाने से भारत के मौजूदा सैनिकों की संख्या में इजाफा होगा।
चीनियों ने पूर्वी लद्दाख के डेमचोक में चारडिंग नाला के पास भारत की तरफ तंबू लगाए हैं। इन तंबुओं में जो लोग रह रहे हैं उनको ‘तथाकथित नागरिक’ बताया जा रहा है। भारत की ओर से इनको वापस जाने के लिए कहा गया है बावजूद इसके इनकी मौजूदगी बनी हुई है।
चीन पूर्वी लद्दाख में अपने सैनिकों की गतिविधि बढ़ा रहा है और बहुत तेज गति से सैन्य बुनियादी ढांचे का विकास कर रहा है। सूत्रों के अनुसार गहराई वाले इलाकों में चीनी सैनिकों के लगभग चार डिवीजन G219 राजमार्ग पर तैनात हैं, जो अक्साई चिन से होकर गुजरता है। भारत भी अब किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए अपनी सैन्य ताकत बढ़ा रहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *