भारत-ओमान रणनीतिक सलाहकार समूह की बैठक संपन्‍न

भारत-ओमान रणनीतिक सलाहकार समूह की बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मंत्रालय के सचिव संजय भट्टाचार्य और ओमानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मंत्रालय के राजनयिक मामलों के अवर सचिवशेख खलीफा बिन अली अल-हरथी ने किया। बैठक में सचिव संजय भट्टाचार्य ने कोरोना काल में ओमान में रह रहे भारतीय समुदाय की उत्कृष्ट देखभाल के लिए ओमानी पक्ष का आभार जताया।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ओमानी प्रतिनिधिमंडल अपनी दो दिवसीय यात्रा पर गुरुवार को नई दिल्ली पहुंचा। कोविड-19 की शुरुआत के बाद ओमान से भारत की यह पहली उच्च-स्तरीय आधिकारिक यात्रा है। आईओएससीजी की बैठक के दौरान दोनों पक्षों ने भारत-ओमान संबंधों के स्पेक्ट्रम की समीक्षा की। जिसमें राजनीतिकऊर्जाव्यापारनिवेशरक्षासुरक्षाअंतरिक्षखननएस एंड टीसंस्कृति और कांसुलर क्षेत्र शामिल हैं। यही नहीं बैठक में दोनों पक्षों ने कोविड-19 महामारी के बावजूद अपने रणनीतिक संबंधों को और मजबूत बनाने के लिए संपर्क बनाए रखने पर संतोष व्यक्त किया।

इससे पहले भारतीय विदेश मंत्री डा. एस जयशंकर ओमानी अवर सचिवशेख खलीफा बिन अली अल-हरथी का स्वागत किया और सुल्तान हेथम बिन तारिक के शासनकाल की पहली वर्षगांठ पर ओमानी पक्ष को बधाई दी। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सुल्तान की भारत यात्रा के निमंत्रण को दोहराया।

ओमान में लगभग 7,00,000 भारतीय हैंजिनमें से लगभग 5,67,000 श्रमिक और पेशेवर हैं। इसके अलावा अलावा हजारों भारतीय ओमान में डॉक्टरइंजीनियरचार्टर्ड एकाउंटेंटशिक्षकव्याख्यातानर्सप्रबंधक के रूप में काम कर रहे हैं। 

  • Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *