अपने FTAs को रिव्यू करने की सोच रहा है भारत

नई दिल्‍ली। भारत अब अपने फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स यानी FTAs को रिव्यू करने की सोच रहा है। इसमें वो एग्रीमेंट्स भी शामिल होंगे, जिनसे भारत को फायदा तो बहुत कम हुआ है लेकिन नुकसान काफी हुआ है।
अब इन नुकसान वाली या यूं कहें बेकार डील्स के बारे में भारत गंभीरता से सोच रहा है। एक अधिकारी ने कहा कि सभी विकल्पों पर गौर किया जा रहा है।
ये देखा जा रहा है कि कौन से ऐसे फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स हैं, जो उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं। इसे लेकर हाई लेवल पर फैसला किया जाएगा की भविष्य में इसका क्या करना है। अधिकतर ट्रेडिंग एग्रीमेंट्स में एक रिव्यू करने का या फिर उस एग्रीमेंट्स से बाहर निकलने का क्लॉज है। सबसे अधिक फोकस अमेरिका, यूरोपियन यूनियन और यूके पर किया जा रहा है, जो भारत के निर्यातकों के लिए बेहद खास मार्केट है।
भारत ने रीजनल कॉम्प्रेहेंसिव इकनॉमिक पार्टनरशिप डील से नवंबर में ही खुद को बाहर कर लिया था। एक अधिकारी ने बताया कि फिलहाल 15 सदस्यों वाले समूह के साथ भारत का ट्रेडिंग एग्रीमेंट नहीं है, जिसमें चीन भी शामिल है। भारत कुछ ट्रेडिंग एग्रीमेंट्स का रिव्यू कर सकता है और कुछ आइटम पर टैरिफ पर फिर से नेगोशिएशन हो सकता है।
भारत ने ट्रेड एग्रीमेंट का आंकलन करने के लिए 4 वर्किंग ग्रुप बनाए हैं, जो आंकलन के बाद नई रणनीति बनाएंगे। नई रणनीति बनाते वक्त यह भी ध्यान में रखा जाएगा कि भारत अभी कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रहा है। इससे देश में निवेश आएगा और निर्यात को मजबूती मिलेगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *