मुंबई टेस्ट के चौथे ही दिन भारत ने न्यूजीलैंड को बड़े अंतर से हराया

भारत ने न्यूजीलैंड को मुंबई टेस्ट के चौथे ही दिन 372 रनों के विशाल अंतर से हराते इतिहास रच दिया। यह उसकी रनों के मामले में सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले उसने साउथ अफ्रीका को दिसंबर 2015 में 337 रनों से हराया था। इस जीत के साथ ही भारत ने टेस्ट वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में मिली हार का बदला भी ले लिया है जबकि सीरीज पर 1-0 से कब्जा किया। 540 रनों के भारी भरकम लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड टीम की दूसरी पारी 167 रनों पर सिमटी। यह भारतीय टीम की घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीत भी है।
तीसरे दिन के स्कोर 5 विकेट पर 140 रन से आगे खेलना शुरू किया और 165 रनों तक ही पहुंच सकी। उम्मीद के मुताबिक चौथे दिन की शुरुआत में ही कप्तान कोहली ने अश्विन और तयंत यादव को लगा दिया। दिन के 7वें और 9वें ही ओवर में जयंत ने 3 विकेट झटकते हुए मेहमानों की हार लगभग पक्की कर दी। तीसरे दिन अश्विन ने 3 विकेट झटके थे, जबकि भारत जीत से 5 विकेट दूर था।
कानपुर में अपने जज्बे का शानदार प्रदर्शन करके पहला टेस्ट मैच ड्रा कराने वाली न्यूजीलैंड की टीम यहां संघर्ष नहीं कर पायी तथा अतिरिक्त उछाल और टर्न के सामने उसके बल्लेबाजों ने आसानी से घुटने टेके। न्यूजीलैंड हालांकि इस मैच को ऐजाज पटेल के पारी में 10 विकेट के ऐतिहासिक कारनामे के लिए याद रखेगा।
भारतीय कोच राहुल द्रविड़ ने मैच के बाद कहा, ‘विजेता के रूप में श्रृंखला का अंत करना अच्छा है। कानपुर में भी जीत के करीब पहुंच गए थे लेकिन आखिरी विकेट नहीं ले पाए। यहां हमने कड़ी मेहनत की। परिणाम भले ही एकतरफा लग रहा हो लेकिन पूरी श्रृंखला में हमने कड़ी मेहनत की।’
दिलचस्प तथ्य यह रहा कि पटेल ने न्यूजीलैंड की तरफ से दोनों पारियों में 73.5 ओवर गेंदबाजी की जबकि उनकी टीम दोनों पारियों में 84.4 ओवर तक ही बल्लेबाजी कर पायी। न्यूजीलैंड ने सुबह पांच विकेट पर 140 रन से आगे खेलना शुरू किया और तीसरे दिन शाम के सत्र में अच्छी लय में दिख रहे जयंत ने जल्द ही उसके विकेट निकालने शुरू कर दिए। इससे पहले अपना आखिरी टेस्ट मैच 2017 में खेलने वाले जयंत ने 49 रन देकर चार विकेट लिए।
उन्होंने अपने सभी चारों विकेट चौथे दिन सुबह के सत्र में लिए। जयंत ने कहा, ‘सुबह विकेट में नमी थी जिससे मदद मिली। आप शाम के सत्र और आज सुबह में अंतर देख सकते हो। पिच से अधिक मदद मिल रही थी। ऐसे में गेंद सही क्षेत्र में पिच कराना महत्वपूर्ण था।’
इस जीत से भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका दौरे पर बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ जाएगी जो तीन सप्ताह के अंदर शुरू होने वाला है। जयंत ने सुबह रचिन रविंद्र को (18) को दूसरी स्लिप में चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच कराया और फिर फ्लाइट लेती गेंद पर काइल जैमीसन को पगबाधा आउट किया। टिम साउदी लंबा शॉट खेलने के प्रयास में बोल्ड हो गए जबकि विल सोमरविले ने जयंत को वापस आसान कैच दिया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *