इमरान ख़ान ने कहा, संक्रमण के मामले इसी गति से बढ़े तो भारत जैसे हालात होंगे

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा अगर कोरोना संक्रमण के मामलों में तेज़ी ऐसे ही जारी रही तो पाकिस्तान में भी वही हालात हो जाएंगे जो हिंदुस्तान में हैं.
इमरान ख़ान ने कहा कि कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए सरकारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन हो. पाकिस्तानी पीएम ने इसके लिए सेना और दूसरी एजेंसियों से मदद की गुज़ारिश की है.
नेशनल कोऑर्डिनेशन कमेटी की एक बैठक के बाद उन्होंने कहा कि “जिस तरह से तेज़ी से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, मैं आपसे गुज़ारिश करना चाहता हूं कि सरकार के जारी किए दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करें.“
उन्होंने मास्क पहनने की बात पर ज़ोर देकर कहा कि केवल मास्क को पहनने से आधी समस्या हल हो जाती है.
उन्होंने कहा कि ”अगर आज से लेकर ईद तक देश के सभी लोग कोरोना से बचने के लिए बताए गए दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से पालन करेंगे तो भारत की तरह हमें शहरों में लॉकडाउन लागू करने जैसे क़दम नहीं उठाने पड़ेंगे.”
उन्होंने कहा लॉकडाउन का सबसे बुरा असर ग़रीबों और दिहाड़ी मज़दूरों पर पड़ता है और सरकार इस तरह का फ़ैसला नहीं लेना चाहती. लेकिन अगर हालात बिगड़े तो सरकार को मजबूरन कड़े फ़ैसले लेने होंगे.
इमरान ख़ान ने चेतावनी दी कि अगर लोग एहतियात नहीं बरतेंगे तो लॉकडाउन करना होगा, जिसका असर अर्थव्यवस्था, फैक्ट्रियों और सबसे ज़्यादा देश के ग़रीबों पर होगा.
उन्होंने कहा कि बीते साल रमज़ान के दौरान मस्जिदें खुली रखने वाला पाकिस्तान अकेला देश था.
उन्होंने कहा कि उन्हें अपने देश के मौलानाओं पर गर्व है जिन्होंने कोरोना महामारी के बारे में लोगों को जागरूक किया और उन्हें एहतियाती क़दम उठाने के बारे में समझाया.
कोरोना महामारी को देखते हुए पाकिस्तान सरकार ने हाल में नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं जिसमें कहा गया है कि जिन ज़िलों में कोरोना पॉज़िटिविटी दर पाँच फ़ीसदी से अधिक हैं वहां ईद तक स्कूलों को बंद रखा जाएगा.
सरकार ने शाम के छह बजे के बाद सभी बाज़ार बंद करने के आदेश दिए हैं और दफ्तरों में काम का वक्त घटा कर दोपहर दो बजे तक कर दिया है.
सरकार ने ये भी कहा है कि दफ्तरों में एक वक़्त पर केवल 50 फ़ीसदी कर्मचारी काम कर सकते हैं.
साथ ही ईद तक सभी रेस्त्रां में खाने पर पाबंदी लगाई गई है. हालांकि टेक-अवे और होम डिलिवरी पर कोई रोक नहीं है.
जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी के डैशबोर्ड के अनुसार पाकिस्तान में फ़िलहाल कोरोना संक्रमण के 7.84 लाख मामले दर्ज किए गए हैं और यहां इस वायरस के कारण 16,842 लोगों की मौत हुई है.
हाल के दिनों में यहां संक्रमण के रोज़ाना पांच हज़ार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *