मोदी और ट्रंप की मुलाकात के बाद इमरान खान ने कहा, मैं कश्मीर का राजदूत बनूंगा

इस्लामाबाद। जी-7 शिखर सम्मेलन से इतर एक बैठक में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि भारत ने हमें दिवालिया करने की कोशिश की है। इसके साथ ही इमरान खान ने एक बार फिर से कश्मीर राग छेड़ा है।
इमरान खान ने कहा कि कश्मीर पर अब फैसले का वक्त आ गया है। कश्मीर पर भारत से बात की तो, आतंकवाद का आरोप लगा दिया गया। उन्होंने कहा कि कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर भारत ने बहुत बड़ी गलती की है। इससे कश्मीर के लोगों को आजाद होने का और मौका मिल गया है। इस मसले को हमने दुनिया के सामने उठा दिया है। ये मसला अब दुनिया के सामने आ गया है। जिस तरह उन्होंने बालाकोट में किया वही कोशिश उनकी पीओके में करने की थी। पीओके में हम पूरी तरह से तैयार हैं। अब मैं कश्मीर का मसला दुनिया में उठाऊंगा, मैं सबको बताऊंगा कि कश्मीर में क्या हो रहा है। मैं कश्मीर का राजदूत बनूंगा।
इमरान ने कहा, ‘हम कश्मीर के मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने में सफल रहे हैं, हमने विश्व नेताओं और दूतावासों से बात की। 1965 के बाद पहली बार संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर मुद्दे पर एक बैठक बुलाई। यहां तक कि अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने भी इसे उठाया है। मैं 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोलूंगा और विश्व मंच पर कश्मीर मुद्दे को उजागर करूंगा।’
जम्मू एवं कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को खत्म करने के भारत सरकार के फैसले से परेशान पाकिस्तान दुनियाभर में हल्ला मचाने की कोशिश कर रहा है लेकिन पाकिस्तान को हर जगह से मुंह की खानी पड़ रही है। हाल ही में यूनाइटेड नेशन्स में भी पाकिस्तान को कश्मीर मामले पर बड़ा झटका लगा था। वहीं, जी-7 शिखर सम्मेलन से इतर एक बैठक में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जम्मू कश्मीर पर साफ संदेश दे दिया है। पीएम मोदी ने कहा, ‘हम किसी भी देश के मामलों में दखल नहीं देते हैं इसलिए हम अपने आंतरिक मामलों में किसी को दखल देने का कष्ट नहीं देंगे।’
पाकिस्तान कश्मीर मामले को चर्चा में लाने के लिए हर तरह के पैंतरे का इस्तेमाल कर रहा है। वहीं, रोजनामा पाकिस्तान की रिपोर्ट के अनुसार इमरान खान सिंध में हिंदुओं की अच्छी आबादी वाले इलाके उमरकोट का 31 अगस्त को दौरा करेंगे और वहां एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इमरान खान पाकिस्तान के हिंदू समुदाय व अन्य अल्पसंख्यक समुदायों को कश्मीर पर अपने रुख से अवगत कराएंगे। इसे अल्पसंख्यक समुदायों के साथ एकजुटता के रूप में प्रदर्शित किया जा रहा है।
बता दें कि अमेरिका, रूस, चीन जैसे देशों ने जम्मू कश्मीर पर पाकिस्तान के किसी भी बयान को सुनने से मना कर दिया है। सभी देशों ने संदेश दे दिया है कि जम्मू कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है, इस पर पाकिस्तान बेवजह हल्ला मचा रहा है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *