ICC वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप: 18 जून से आमने सामने होंगे भारत और न्यूजीलैंड

नई दिल्‍ली। भारत और न्यूजीलैंड की टीमें ICC वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में 18 जून से आमने सामने होंगी। दोनों टीमों ने इस बहु प्रतीक्षित मुकाबले की तैयारियां शुरू दी है। सबकी नजरें भारतीय बल्लेबाजों के प्रदर्शन पर होगी।
इस दौरे के लिए भारत ने 20 सदस्यीय मजबूत स्कॉड चुनी है। इनमें कई ऐसे हैं जो पहली बार इंग्लैंड का दौरा करेंगे जबकि कई खिलाड़ी पहले जा चुके हैं। ओपनर शुभमन गिल, मयंक अग्रवाल, वॉशिंगटन सुंदर और मोहम्मद सिराज पहली बार इंग्लैंड जा रहे हैं।
कप्तान विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे और चेतश्वर पुजारा का ये तीसरा इंग्लैंड दौरा होगा। बल्लेबाजी में इन तीनों से अधिक उम्मीदें हैं। हालांकि भारतीय टीम के पूर्व ऑलराउंडर विजय भारद्वाज का कहना है कि सबसे ज्यादा दबाव अजिंक्य रहाणे पर होगा।
रहाणे ने इंग्लैंड में 10 टेस्ट में 552 रन बनाए हैं
रहाणे ने इंग्लैंड में अब तक 10 टेस्ट मैचों में कुल 552 रन बनाए हैं जिसमें एक शतक और चार अर्धशतक शामिल हैं। भारद्वाज का मानना है कि रहाणे को बैटिंग में और योगदान देने की जरूरत है।
विजय ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘रहाणे पर काफी दबाव होगा। दुर्भाग्य से रहाणे उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं। वह लगातार संघर्ष कर रहे हैं।’ बेशक ये आंकड़े रहाणे जैसे बल्लेबाज के लिए अच्छे नहीं हैं लेकिन ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मिली 2-1 की ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज में इस बललेबाज ने अहम भूमिका निभाई थी।
बकौल भारद्वाज, ‘ रहाणे को भी तेज गति से रन बनाना होगा। क्योंकि आप यह नहीं चाहते कि आपका कोई दूसरा बल्लेबाज धीमा खेले। जब आप नियमों को देखते हैं तो धीमी बल्लेबाजी से मुकाबले ड्रॉ की ओर जाते हैं और डब्ल्यूटीसी फाइनल में ड्रॉ का मतलब है ट्रोफी साझा करना। टेस्ट चैंपियनशिप खिताब जीतने के लिए आपके बल्लेबाजों को स्कोरिंग रेट बढ़ाने की जरूरत है। मैं जानता हूं कि कोहली, रोहित शर्मा, ऋषभ पंत तेजी से रन बनाएंगे लेकिन रहाणे को भी सकारात्मक खेलना चाहिए।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *